उद्धव ठाकरे ने इस्तीफा दिया तो राज ठाकरे का ये बयान याद आता है, गजब संयोग…

उद्धव ठाकरे ने इस्तीफा दिया तो राज ठाकरे का ये बयान याद आता है, गजब संयोग…

मुंबई: हिंदुत्ववादी राजनीति को लेकर शिवसेना राज्य में राजनीतिक माहौल मथती रही है। अब जब शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बुधवार रात मुख्यमंत्री और विधान परिषद के पद से इस्तीफा दिया तो ऐसे समय में मनसे प्रमुख राज ठाकरे का हालिया बयान बड़ा ही मौजूं है।

मनसे प्रमुख राज ठाकरे का बयान याद किया जा रहा है। जब मस्जिद की घंटी बजने का विरोध करने के बाद ठाकरे सरकार ने मनसे कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करना शुरू कर दिया था। राज ठाकरे ने इस संबंध में उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा था। पत्र में उन्होंने कहा था कि मुझे राज्य सरकार से बस इतना कहना है कि सहिष्णुता का अंत मत देखो। सत्ता आती है चली जाती है। सत्ता की ताम्र प्लेट कोई नहीं लाया, उद्धव ठाकरे भी नहीं, ‘उन्होंने पत्र के अंत में कहा था।

अब जब शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में पार्टी के कई नेताओं ने बगावत कर दी। नतीजतन, महाविकास अघाड़ी सरकार अल्पमत में आ गयी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक, महाविकास अघाड़ी सरकार को गुरूवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा। लेकिन उससे पहले उद्धव ठाकरे ने इस्तीफा देने का फैसला कर लिया। उन्होंने फेसबुक लाइव पर इसकी घोषणा की।

औरंगाबाद और उस्मानाबाद का बदला नाम तो एमआईएम सांसद के बिगड़े बोल