सपा के दिग्गज नेता रेवती रमण सिंह चुनेंगे नयी राह?

सपा के दिग्गज नेता रेवती रमण सिंह चुनेंगे नयी राह?

LUCKNOW: सपा के दिग्गज नेता रेवती रमण सिंह अब राज्य सभा के सदस्य नहीं है। बीते रविवार को ही उनकी राज्यसभा सदस्यता समाप्त हो गयी। इसके पहले काफी समय से उनकी पार्टी छोड़ने की अटकलें लगायी जा रही हैं। अब यह रास्ता साफ हो गया है। माना जा रहा है कि इसकी वजह उनकी सपा मुखिया अखिलेश यादव से नाराजगी है। उनको अपने बेटे उज्जवल रमण सिंह के लिए भी सियासी जमीन तैयार करनी है।

वैसे रेवती रमण सिंह का चार दशक से यमुनापार सियासत में हस्तक्षेप रहा है। उनके बेटे भी विधायक रह चुके हैं। उज्ज्वल रमण सिंह को करछना से दो बार विजय मिली थी। इसी वजह से वह सपा के शीर्ष नेताओं में शुमार रहें। पर अब उनके भी सियासी राह को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। विधानसभा चुनाव में उज्जवल रमण सिंह को सफलता नहीं मिली थी। अब रेवती रमण भी सांसद नहीं है और न ही उन्हें चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया गया। पार्टी नेतृत्व से वह इस बाबत अपनी नाराजगी जता चुके हैं।

बहरहाल, उनके भाजपा में नयी पारी शुरू करने की चर्चाएं जोर पकड़ रही हैं। यह चर्चा काफी समय से चल रही है। विधानसभा चुनाव से पूर्व भी इसी तरह की चर्चा थी और अब मौजूदा स्थितियों में एक बार फिर यह चर्चा शुरू हो गई है। पर ​सियासत के मंझे हुए खिलाड़ी रेवती रमण सिंह ने अब तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

उधर समाजवादी पार्टी ने उपचुनाव के बाद सभी प्रदेश अध्यक्ष को छोड़कर सभी इकाइयों को भंग कर दिया। अब सपा संगठन में अपनी जगह बनाने के लिए नेताओं के बीच होड़ शुरू हो गई है। निकाय चुनाव भी मौजूदा वर्ष में हो सकते हैं। ऐसी स्थितियों में सपा पर जल्द से जल्द संगठन के गठन का दबाव भी है। सपा समर्थकों का कहना है कि इस सिलसिले में स्थानीय स्तर पर रिपोर्ट तैयार हो रही है कि कौन सा नेता अपने क्षेत्र में सक्रिय है।

Corona Cases in India in 24 Hours Today: 24 घंटे में कोरोना के 13,086 नये केस