वैकुंठ चतुर्दशी 2022: वैकुंठ चतुर्दशी आज, राशि के अनुसार अपार सफलता के लिए करें ये उपाय

वैकुंठ चतुर्दशी 2022: वैकुंठ चतुर्दशी आज, राशि के अनुसार अपार सफलता के लिए करें ये उपाय
वैकुंठ चतुर्दशी 2022, राशि चिन्ह: पंचांग के अनुसार वैकुंठ चतुर्दशी 6 नवंबर 2022 यानि आज मनाई जा रही है. इस दिन का धार्मिक महत्व है। कार्तिक मास की चतुर्दशी के दिन मनाया जाने वाला यह पर्व दुखों को दूर करने वाला भी माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु देवउठनी एकादशी पर योग निद्रा से जागने के बाद कर्ताक शुक्ल चतुर्दशी को भगवान शिव से मिलते हैं और भगवान शिव उन्हें फिर से सृष्टि के प्रबंधन की जिम्मेदारी सौंपते हैं। पूरे साल में इसी दिन हरि-हर की एक साथ पूजा की जाती है। इस दिन की जाने वाली पूजा का विशेष महत्व बताया गया है। आइए जानते हैं इस दिन राशि के अनुसार उपाय-

 मेष – यदि आप अपने जीवन में वैकुंठ चतुर्दशी के दिन अन्य लोगों का सहयोग प्राप्त करना चाहते हैं, तो सुबह उठकर स्नान आदि कर लें. शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर दूध चढ़ाएं. साथ ही सफेद फूल चढ़ाते हुए Om नमः शिवाय मंत्र का 21 बार जाप करें।

 वृष- यदि आप वैकुंठ चतुर्दशी के दिन अपने व्यापार में तेजी लाना चाहते हैं तो मिट्टी का एक बर्तन लें और उसमें गेहूं भर दें. इस पर थोड़ी दक्षिणा भी रखें। अब गेहूं से भरे इस पात्र को मंदिर में दान कर दें।

 मिथुन : – वैकुण्ठ चतुर्दशी के दिन शत्रुओं पर विजय पाना हो तो 11 बेल के पत्ते सुबह स्नान कर लें, उन पर चंदन से ‘O’ लिखें, उसकी माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं।

कर्क : – यदि आप वैकुंठ चतुर्दशी के दिन सभी प्रकार के भय से छुटकारा पाना चाहते हैं और अपने जीवन में नई ऊर्जा का संचार करना चाहते हैं तो आपको किसी नदी, सरोवर में जाना चाहिए और चौदह तेल के दीपक जलाना चाहिए, लेकिन अगर आपके पास कोई नदी या झील नहीं है। फिर आप अपने घर में चौदह दीपक जलाएं।

सिन्हा ( सिंह ) – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन यदि आपको कठिन परिश्रम के बाद भी सफलता प्राप्त करने में कठिनाई हो रही है, तो सुबह स्नान आदि करके शिवलिंग की विधिवत पूजा करें. साथ ही शिव के ‘O नमः शिवाय’ मंत्र का 11 बार जाप करें।

कन्या – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन यदि आप समाज में अपने परिवार का मान बढ़ाना चाहते हैं तो भगवान विष्णु की पूजा करते हुए पीले कपड़े में हल्दी, चांदी का सिक्का डालकर पोटली बनाएं. अब भगवान विष्णु की विधिपूर्वक पूजा करें और पूजा के बाद उस पोटली को अपने घर के मंदिर में रख दें।

तुला – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन यदि आप अपने जीवन में धन और भौतिक सुख-सुविधाओं में वृद्धि करना चाहते हैं तो शिव मंदिर जाएं और पहले शिवलिंग का जल से अभिषेक करें और फिर भगवान को धतूरा और भांग का भोग लगाएं। साथ ही कनार के फूल भी चढ़ाएं।

वृषिक (वृश्चिक) – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन किसी विशेष कार्य में लाभ प्राप्त करना हो तो देसी घी में बेसन भूनकर, उसमें पिसी चीनी मिलाकर, हो सके तो थोड़ा केसर मिला कर 21 लड्डू बना लें. अब विष्णु मंदिर जाएं या घर पर, उन लड्डुओं को एक-एक करके भगवान विष्णु को अर्पित करें।

धन  – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन यदि आप किसी कारण से परेशान हैं, जिसके कारण आपका काम रुका हुआ है, तो शिव को 11 बिल्वपत्रों के साथ कुछ तिल अर्पित करें. साथ ही गाय को जौ के आटे की रोटी खिलाएं।

मकर: – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन यदि आप अपने अंदर सकारात्मक विचार पैदा करना चाहते हैं तो एक कसावा का पत्ता लें, उस पर हल्दी से स्वस्तिक का चिन्ह बनाएं और उसे भगवान विष्णु के चरणों में ‘ओम नमो भगवते नारायणै’ कहते हुए चढ़ाएं।

कुंभ – यदि आप वैकुंठ चतुर्दशी के दिन अपने जीवनसाथी के साथ प्रेम और शांति बनाए रखना चाहते हैं, तो इस दिन आपको दूध में केसर और कुछ फूल शिवलिंग पर चढ़ाने चाहिए. इसके साथ ही शिव मंत्र ‘m नमः शिवाय’ का 108 बार जाप करना चाहिए।

मीन राशि – वैकुंठ चतुर्दशी के दिन यदि आप अपने दांपत्य जीवन को सुखी रखना चाहते हैं तो भगवान विष्णु की पूजा के बाद केले के पेड़ को जल दें. पेड़ के नीचे शुद्ध घी का दीपक भी जलाएं। फिर अपने हाथों को झुकाकर पेड़ को प्रणाम करें।