ये है मुलायम सिंह यादव की साधना गुप्ता से दूसरी शादी की कहानी, जानिए कैसे पहुंची सपा संस्थापक के करीब

ये है मुलायम सिंह यादव की साधना गुप्ता से दूसरी शादी की कहानी, जानिए कैसे पहुंची सपा संस्थापक के करीब

सूबे की सियासत में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की गहरी पैठ रही है। उनके सियासी दांव के चर्चे आज भी सियासी गलियारों में सुने जाते हैं। शनिवार को उनकी पत्नी साधना गुप्ता का निधन हो गया। वह फेफड़े में सक्रमण की वजह से बीमार थीं। पर साधना गुप्ता सपा संस्थापक के करीब कैसे पहुंची, आइए जानते हैं।

मां के इलाज के दौरान संपर्क में आयीं

समाजवादी पार्टी की सियासत को वर्षों से करीब से देखने वाले सियासतदान बताते हैं कि मुलायम सिंह यादव की मां मूर्ति देवी बीमार थीं। उनका सैफई के अस्पताल में इलाज जारी था। राजधानी में भी उनका इलाज चल रहा था। इसी बीच एक दिन एक नर्स मुलायम सिंह की मां मूर्ति देवी को गलत इंजेक्शन लगाने वाली थी, उस समय वहां पर एक अन्य नर्स भी मौजूद थी, वह ट्रेनी नर्स साधना गुप्ता थी। उस नर्स ने गलत इंजेक्शन लगाने जा रही नर्स को इंजेक्शन लगाने से रोक दिया और फिर मूर्ति देवी की जान बच गयी। सपा को नजदीक से जानने वाले लोग बताते हैं कि तभी से साधना गुप्ता, मुलायम सिंह यादव के करीब आ गईं और बाद में मुलायम सिंह ने उनसे दूसरी शादी की।

उसी दौरान आईं सपा संस्थापक के सम्पर्क में

दरअसल, साधना गुप्ता इटावा के बिधुना तहसील की निवासी थीं। उनकी शादी चंद्रप्रकाश गुप्ता से 4 जुलाई वर्ष 1986 में हुई थी। चंद्रप्रकाश गुप्ता फर्रूखाबाद के रहने वाले थे। इसके बाद उनकी जिंदगी में प्रतीक आएं। उनका जन्म 7 जुलाई 1987 को हुआ था। पर साधना की चंद्रप्रकाश गुप्ता के साथ शादी ज्यादा दिन चली नहीं और दो साल बाद दोनों अलग—अलग हो गए। समाजवादी पार्टी को नजदीक से जानने वाले ​सियासतदान बताते हैं कि उस समय साधना गुप्ता, मुलायम सिंह की मां मूर्ति देवी की देखभाल बेहतर तरीके से करती थीं। बताते हैं कि इसी वजह से मुलायम सिंह यादव बहुत जल्द साधना गुप्ता के करीब आएं।

मालती देवी के निधन के बाद दिया पत्नी का दर्जा

सियासतदान यह भी बताते हैं कि जब प्रतीक यादव का पढाई के लिए स्कूल में एडमिशन हुआ तो उनके पिता के नाम की जगह एमएस यादव दर्ज था। यह घटना करीबन वर्ष 1994 की है और फार्म में ही उनके पते की जगह सपा संस्थापक के कार्यालय का पता दर्ज था। यह भी चर्चा है कि वर्ष 2000 में मुलायम सिंह का नाम प्रतीक के गार्जियन के रूप में दर्ज हुआ। फिलहाल वर्ष 2003 में मालती देवी के निधन के बाद मुलायम सिंह यादव ने साधना गुप्ता को पत्नी का दर्जा दिया। मालती देवी, मुलायम सिंह यादव की पहली पत्नी थी।

बहू अपर्णा यादव राजनीति में सक्रिय, बेटा सियासत से दूर

गौरतलब है कि प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव राजनीति में रूचि रखती है, पर प्रतीक सियासत से दूर हैं। वैसे 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने कैंट विधानसभा से किस्मत भी आजमायी थी। पर उन्हें जीत नहीं मिली थी। बीते विधानसभा चुनाव के दौरान उन्होंने सपा का दामन छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर लिया। बता दें कि अपर्णा विष्ट यादव, साधना गुप्ता की बहू हैं।

Live Update: साधना गुप्ता का शव सड़क मार्ग से लाया जा रहा लखनऊ, भैंसा कुंड घाट पर कल अंतिम संस्कार

मुलायम सिंह यादव परिवार के ये सदस्य हैं पॉलिटिक्स में एक्टिव, जानिए किस महिला ने सबसे पहले सियासत में रखा कदम

मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता के निधन पर इन हस्तियों ने जताया दुख

मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता की इलाज के दौरान मौत, मेदांता अस्पताल में चल रहा था इलाज