मुलायम सिंह यादव परिवार के ये सदस्य हैं पॉलिटिक्स में एक्टिव, जानिए किस महिला ने सबसे पहले सियासत में रखा कदम

मुलायम सिंह यादव परिवार के ये सदस्य हैं पॉलिटिक्स में एक्टिव, जानिए किस महिला ने सबसे पहले सियासत में रखा कदम

Mulayam Singh Yadav News: देश की सियासत में सपा परिवार के सबसे ज्यादा सदस्य राजनीति मे हैं। सपा परिवार के करीबन 24 से ज्यादा सदस्य राजनीति मे हैं। ऐसा नहीं कि मुलायम परिवार के सभी लोग सियासत मे ही सक्रिय हैं, परिवार में ऐसे भी लोग हैं, जो सियासत से दूर हैं। आइए जानते हैं उनके बारे में।

सुघर सिंह के पांच बेटों में मुलायम सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव के बाबा का नाम मेवाराम था। उनके दो बेटे थे, सुघर सिंह और बच्चीलाल सिंह। सुघर सिंह के पांच बेटों में मुलायम सिंह यादव और शिवपाल सिंह यादव हैं। मुलायम सिंह तीसरे यानि मंझले और शिवपाल यादव सबसे छोटे बेटे हैं। अभय राम यादव ​मुलायम सिंह के सबसे बड़े भाई हैं। रतन सिंह दूसरे नम्बर के और राजपाल सिंह चौथे नम्बर के भाई हैं।

अभय राम के बेटे हैं धर्मेंद्र यादव

धर्मेंद्र यादव, अभय राम यादव के बेटे हैं। वह तीन बार संसद सदस्य रह चुके हैं। पहली बार वह वर्ष 2004 में मैनपुरी से सांसद चुने गए थे। 2009 और 2014 में बदायूं से सांसद बनें। हालिया आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में उन्हें हार मिली।

रतन सिंह के पौत्र हैं तेज प्रताप यादव

तेज प्रताप यादव, रतन सिंह के पौत्र और रणवीर सिंह के बेटे हैं। वह मैनपुरी से सांसद रह चुके है। लीड्स यूनिवर्सिटी, लंदन से एमएससी की है। उनकी शादी लालू यादव की बेटी से हुई है।

Tej Pratap With lalu Yadav and Rajlaksmi

सांसद रह चुकी हैं डिंपल यादव, अपर्णा अब भाजपा में

मुलायम सिंह यादव लोहिया आंदोलन में शामिल हुए और 1992 में सपा की स्थापना की। उन्होंने मालती देवी से पहली शादी की। मुलायम सिंह यादव और मालती देवी के ही पुत्र अखिलेश यादव हैं। उन्होंने दूसरी शादी साधना गुप्ता से की। प्रतीक यादव उनके बेटे हैं और अपर्णा यादव उनकी बहू हैं। अखिलेश यादव की 1999 में डिंपल यादव से शादी हुई। डिंपल यादव भी संसद सदस्य रह चुकी हैं, जबकि प्रतीक राजनीति से इतर ​अपना जिम चलाते हैं। उनकी वाइफ अपर्णा यादव 2017 में सपा के टिकट पर राजधानी के ही कैंट विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में उतरी थीं। पर उन्हें जीत नहीं मिल सकी थी। विधानसभा चुनाव 2022 के दौरान उन्होंने भाजपा ज्वाइन कर लिया था।

mulayam singh yadav news.jpg 1

पहली बार इस महिला ने राजनीति में रखा था कदम

मुलायम से छोटे भाई राजपाल सिंह यादव के बेटे अंशुल हैं। वह भी राजनीति में सक्रिय हैं। यह जिला पंचायत अध्यक्ष रहे हैं और इस बार फिर चुने गए हैं। उनकी मां प्रेमलता यादव 2005 में राजनीति में आयी थीं। प्रेमलता ही मुलायम परिवार की वह पहली महिला है, जिसने सियासत में कदम रखा था। उनके राजनीति में आने के बाद शिवपाल की पत्नी सरला यादव,​ डिंपल और अपर्णा राजनीति के मैदान में उतरीं। सरला वर्ष 2007 में जिला सहकारी बैंक इटावा की राज्य प्रतिनिधि थी।

शिवपाल ने बनायी अलग पार्टी, आदित्य यादव भी राजनीति में सक्रिय

शिवपाल सिंह यादव मौजूदा समय में जसंवतनगर से विधायक हैं। 2017 के समय परिवार में मतभेद की वजह से उन्होंने प्रसपा के नाम से एक अलग दल बनाया। आदित्य यादव उनके बेटे हैं। वह यूपीपीसीएफ के अघ्यक्ष हैं।

shivpal singh yadav & aditya yadav
shivpal singh yadav & aditya yadav

प्रो रामगोपाल यादव भी राजनीति में हैं सक्रिय

प्रो रामगोपाल यादव, मुलायम सिंह यादव के अंकल बच्ची लाल सिंह के पुत्र हैं। प्रो रामगोपाल सियासत में सक्रिय रहे हैं। अक्षय यादव, प्रो रामगोपाल यादव के बेटे हैं। वह सांसद भी रह चुके हैं और बीते 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में उनकी हार हुई थी।

Ramgopal yadav with Mulayam singh yadav

सियासत में सक्रिय परिवार के इन सदस्यों के बारे में भी जानिए

-संध्या यादव, धर्मेंद्र सिंह यादव की बहन हैं। जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए मैनपुरी से निर्विरोध चुनी गई थीं।

-गीता यादव, प्रो. रामगोपाल यादव की बहन हैं। उनके बेटे अरविंद यादव ब्लॉक प्रमुख हैं।

-शीला यादव, धर्मेंद्र की दूसरी बहन हैं। वह जिला पंचायत सदस्य रह चुकी हैं।

-साधना गुप्ता के बहनोई प्रमोद कुमार गुप्ता औरैया के बिधूना से विधायक रह चुके हैं।

-मुलायम के समधी हरिओम यादव दो बार सपा से​ विधायक हैं। हालांकि हरिओम भी अब बीजेपी में शामिल हो चुके हैं।

-धर्मेंद्र यादव के भाई अनुराग यादव भी सियासत में सक्रिय हैं। अनुराग, धर्मेंद्र यादव के छोटे भाई हैं। विधानसभा चुनाव में उन्होंने राजधानी की सरोजनीनगर सीट से चुनाव लड़ा था। पर उन्हें जीत नहीं मिली थी।

मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता के निधन पर इन हस्तियों ने जताया दुख

मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता की इलाज के दौरान मौत, मेदांता अस्पताल में चल रहा था इलाज

क्या यूपी विधानपरिषद में नेता विरोधी दल का दर्जा समाप्त करना असंवैधानिक है? जानिए क्या कहा सपा नेता लाल बिहारी यादव ने