श्री नवनीत सहगल जी “पत्रकारों की तरफ भी देख लीजिए”

श्री नवनीत सहगल जी “पत्रकारों की तरफ भी देख लीजिए”
Dileep Sinha
Dileep Sinha, Member
UP State Accredited Correspondent Commeetee

श्री नवनीत सहगल जी
“पत्रकारों की तरफ भी देख लीजिए”

“CM जन आरोग्य बीमा योजना” के ऑनलाइन फार्म भरने के मामले में सूचना निदेशालय संशोधन पर संशोधन कर रहा है और इसकी सूचना तक नहीं दे रहा हैं जिसके कारण राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त संवाददाता चक्करघिन्नी बना इधर से उधर घूम रहा है।

यह भी पढ़ें : सरकार के मुंह लगे अफसर का लोकतंत्र पर दूसरा हमला

1. आज 19 जनवरी 2022 तक सभी पत्रकारों को I Card तक जारी नहीं हुआ है जबकि CM जन आरोग्य बीमा योजना के लिए आनलाइन फार्म भरने की अंतिम तारीख 20 जनवरी 2022 तक बढ़ा दी गई थी।

2. पहले CM जन आरोग्य बीमा योजना के लिए आनलाइन फार्म भरने की तारीख 10 जनवरी 2022 रखी गई फिर उसको 20 जनवरी 2022 तक बढ़ा दिया गया।

3. पहले सूचना निदेशालय से बताया गया कि [email protected] पर आनलाइन भरे फिर संशोधन करके कहा गया कि [email protected] पर भेजें।

4. सूचना निदेशालय के प्रेस प्रभाग ने I Card नवीनीकरण के मामले में तो इस बार सारी हदें ही पार कर दी है।

यह भी पढ़ें : गृह राज्य मंत्री द्वारा पत्रकारों से किए गए दुर्व्यवहार पर आईना ने दिया राज्यपाल को ज्ञापन

“I Card नवीनीकरण के आवेदन में संशोधन के नाम पर पत्रकारों को चार-चार, पांच-पांच बार दौड़ाया गया फिर भी अभी तक सभी पत्रकारों के आई कार्ड बनकर नहीं आएं है। पत्रकार ने आवेदन किया। उसका I Card नहीं बना। उसने प्रेस प्रभाग से सम्पर्क किया तो पता चला आधार भी लगाना है। उसने आधार लगा दिया फिर भी उसका कार्ड नही बना। उसने फिर पता किया मालूम हुआ फोटो भी लगनी है, उसने फोटो भी दे दी फिर भी उसका कार्ड नही बना। इस बार पता चला कि उसने पुराने कार्ड की फोटो कॉपी नहीं लगायी है जिसकी वजह से कार्ड नही बना है। उसने पुराने कार्ड की फोटो कॉपी भी लगा दी फिर उसे बताया गया कि उसने अपने आवेदन में अपने नाम की मोहर नहीं लगायी है।

यह भी पढ़ें : मोदी और योगी सरकार के भ्रष्ट अफसरों ने उत्तर प्रदेश में बनाया घोटाले का नया कीर्तिमान

सूचना निदेशालय में सभी मान्यता प्राप्त संवाददाताओं की सभी डिटेल उपलब्ध है फिर यह नाटक क्यों किया गया और कार्ड नवीनीकरण को जटिल बनाने का आदेश किसने दिया। इसकी जांच होनी चाहिए और दोषी अफसर के खिलाफ कार्रवाई करके उसे तुरंत हटाना चाहिए। साथ ही प्रेस प्रभाग के कर्मचारियों को सलीके से बात करने की ट्रेनिंग भी दिलाना चाहिए। प्रेस प्रभाग के पुराने मठाधीश कर्मचारियों को हटाकर नए कर्मचारियों को तैनात करना चाहिए। प्रेस प्रभाग में पत्रकारों को किसी भी तरह की जानकारी देने के लिए किसी ना किसी को जवाबदेह बनाना चाहिए।