Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi : गर्भवती महिलाओं के लिए ये खाना है जरूरी

Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi : गर्भवती महिलाओं के लिए ये खाना है जरूरी

Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi : प्रेग्नेंसी में संतुलित आहार लेना बहुत जरूरी है। यह जच्चा और बच्चा दोनों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। ऐसा इसलिए माना जाता है क्योंकि प्रेग्नेंसी के दौरान महिला जो कुछ भी भोजन के रूप में ग्रहण करती है, वह बच्चे के लिए पोषण का मुख्य स्रोत होता है। एक गर्भवती महिला के आहार में विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ जैसे फल, सब्जियां और प्रोटीन शामिल होना चाहिए, ताकि बच्चे को विकास के लिए जरूरी पोषक तत्व मिल सके। अब जब प्रग्नेंसी में खान पान की बात आती है, तब यह तय करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है कि एक गर्भवती ​महिला को क्या आहार लेना चाहिए और क्या नहीं?

क्या चीजें खानी चाहिए, लिस्ट नीचे (Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi)

एक प्रेग्नेंट महिला को गर्भावस्था के दौरान क्या चीजें खानी चाहिए। इसकी एक सूची नीचे दी गयी है। उसके सूची के मुताबिक यह गर्भवती महिला भोजन करती है तो उसके होने वाले बच्चे को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं, जो गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास के लिए आवश्यक है।

दिन Pre Breakfast Snack  Morning Breakfast Mid Morning Snack Lunch Evening Snack Dinner
 1st Day काजू, बादाम और किशमिश सहित सूखे मेवों के 8-12 टुकड़े। मूंग दाल चीला-3 +पुदीना/नारियल की चटनी-2 चम्मच ब्लूबेरी शेक (1 कप) 1.5 कप मटन बिरयानी + ककड़ी प्याज रायता (½ कप) शकरकंद का सलाद (200 ग्राम शकरकंद, 1 चुटकी चाट मसाला और 1 चम्मच नींबू के रस से पका हुआ) + हल्की चाय (1 कप) गेहूं का डोसा 3 + ½ कप करेले की सब्जी
 2nd Day स्ट्रॉबेरी, अनार, अमरूद, या संतरे के साथ घर का बना फलों का रस (1 गिलास) गेहूं का डोसा-4 + टमाटर की सब्जी (½ कप) ब्रोकली और लहसुन से बना वेजिटेबल सूप (1 कटोरी) 1.5 कप चावल + 1 टुकड़ा चिकन + 1 कप ब्रोकली की सब्जी अपनी पसंद के आम, केले और जामुन से बना मिक्स्ड फ्रूट सलाद (1 मध्यम आकार की प्लेट) मूंग दाल चीला-3 +पुदीना/नारियल की चटनी-2 चम्मच
3rd Day  केला मिल्कशेक

(1 गिलास)

सब्जियों से भरपूर सेवई या उपमा (1 कप) + 2 मध्यम आकार के परांठे कद्दू का सूप (1 कटोरी) 1.5 कप मटन बिरयानी + ककड़ी प्याज रायता (½ कप) सूखे मेवे के 10-14 टुकड़े मल्टीग्रेन टोस्ट (संख्या में 2 इंच) दो सनी साइड अप अंडे के साथ
4th Day  गाजर का रस (1 गिलास) दलिया (1 कप) + 2 उबले अंडे केला मिल्कशेक

(1 गिलास)

1.5 कप राइस, 1 पीेछे मटन + 1 बाउल मसूर दाल अपनी पसंद के आम, केले और जामुन से बना मिक्स्ड फ्रूट सलाद (1 मध्यम आकार की प्लेट) सब्जियों से भरपूर पोहा (1 कप) + 2 मूंग दाल चीला
5th Day  1 सादा गिलास दूध सब्जियों से भरपूर पोहा (1 कप) + 2 मूंग दाल चीला टमाटर या टमाटर का सूप (1 कटोरी) 1.5 कप चिकन बिरयानी + ककड़ी प्याज का रायता (½ कप) गाजर, खीरा और प्याज़ से बना वेजिटेबल सलाद (1 प्लेट) मल्टीग्रेन टोस्ट (संख्या में 2 इंच) दो सनी साइड अप अंडे के साथ
6th Day  केला मिल्कशेक

(1 गिलास)

दलिया (1 कप) + 2 उबले अंडे कद्दू का सूप (1 कटोरी) 1.5 कप राइस, 1 पीस मटन + 1 बाउल मसूर दाल काजू, बादाम और किशमिश सहित सूखे मेवों के 10-14 टुकड़े गेहूं का डोसा-4 + टमाटर की सब्जी (½ कप)
7th Day  1 सादा गिलास दूध सब्जियों से भरपूर सेवई या उपमा (1 कप) + 2 मध्यम आकार के परांठे पीच मिल्कशेक (1 गिलास) 1.5 कप सब्जी खिचड़ी + 1 पीस चिकन + 1 छोटी कटोरी दही 1 मध्यम आकार का एवोकैडो 1 चम्मच पीनट बटर के साथ सब्जियों से भरपूर पोहा (1 कप) + 2 मूंग दाल चीला

 

गर्भावस्था के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले खाद्य और पेय पदार्थ (Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi)

 

डेयरी उत्पाद: डेयरी उत्पाद कैल्शियम और विटामिन जैसे विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, जो गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास के लिए जरूरी हैं।

फलियां: (Sweet Potatoes) फलियां प्रोटीन, फाइबर, आयरन, फोलेट और कैल्शियम प्रदान करने वाले पौधों पर आधारित पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं, जिनकी गर्भावस्था के दौरान अधिक आवश्यकता होती है।

शकरकंद: शकरकंद में बीटा कैरोटीन नामक विटामिन अधिक होता है, जो स्वस्थ भ्रूण के विकास के लिए आवश्यक है।

Salmon: Salmon एक ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होता है जिसे डोकोसाहेक्सैनोइक एसिड (डीएचए) कहा जाता है, जो गर्भावस्था में कमी होती है और इसलिए, इसे पूरक करने की आवश्यकता होती है।

अंडे: अंडे प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत हैं। वे अमीनो एसिड प्रदान करते हैं जो बच्चे को विकास के लिए चाहिए। इसके अतिरिक्त, उनमें कोलीन सहित एक दर्जन से अधिक लाभकारी विटामिन और खनिज होते हैं।

Broccoli and dark, leafy greens: ब्रोकली जैसे गहरे, पत्तेदार साग विटामिन ए, सी, बी 6, के, फोलेट और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं। इसलिए, वे एक अच्छी हीमोग्लोबिन आपूर्ति सुनिश्चित करते हैं, स्वस्थ हड्डियों को बढ़ावा देते हैं, और त्वचा की समस्याओं को रोकते हैं।

Lean meat and proteins: दुबला मांस अच्छी गुणवत्ता वाले प्रोटीन का उत्कृष्ट स्रोत है, जो गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

जामुन: जामुन में अच्छी मात्रा में पानी, स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी और फाइबर होते हैं। इसके अलावा, वे आपके पोषक तत्व और पानी का सेवन बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।

साबुत अनाज: साबुत अनाज खनिजों और विटामिन बी से भरपूर होते हैं, भ्रूण के शरीर के लगभग हर हिस्से के विकास के लिए इसकी आवश्यकता होती है।

एवोकाडोस: एवोकाडो में विटामिन सी, फोलेट और मैग्नीशियम सहित कई पोषक तत्व अधिक होते हैं, ये सभी बच्चे के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

सूखे मेवे: सूखे मेवे कैल्शियम, पोटेशियम और जिंक से भरपूर होते हैं। फाइबर से भरपूर होने के कारण ये गर्भावस्था में कब्ज को रोकने में मदद करते हैं।

Fish liver oil: Fish liver oil ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं, जो वसा के स्वास्थ्यप्रद रूप हैं। वे समय से पहले प्रसव की संभावना को कम करते हैं।

पानी: गर्भावस्था के दौरान रोजाना कम से कम 8-11 गिलास पानी पीना जरूरी है। यह बेहतर पाचन में मदद करता है और भ्रूण के चारों ओर एमनियोटिक द्रव नामक सुरक्षात्मक द्रव को बनाए रखता है।

 

गर्भावस्था के दौरान इन खाद्य और पेय पदार्थों से बचना जरूरी (Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi)

 

High mercury fish: High mercury fish का सेवन करने से पदार्थ (पारा) आपके रक्तप्रवाह में समय के साथ जमा हो जाता है। रक्तप्रवाह में अतिरिक्त पारा बच्चे के विकासशील तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा सकता है।

अधपकी या कच्ची मछली: पूरी तरह से पकी हुई मछली की तुलना में कच्ची मछली में परजीवी, बैक्टीरिया या सूक्ष्मजीव होने की संभावना अधिक होती है। यह गर्भ में पल रहे बच्चे के स्वास्थ्य के लिए सही नहीं हो सकते हैं।

अधपका, कच्चा और प्रोसेस्ड मीट: प्रोसेस्ड मीट में लिस्टेरिया बैक्टीरिया होने की संभावना होती है, जो गर्भवती महिलाओं में फूड पॉइजनिंग और उल्टी का कारण बन सकता है। कच्चे और अधपके मांस में सूक्ष्मजीव भी हो सकते हैं, जिसमें बैक्टीरिया भी शामिल हैं जो बीमारी को जन्म दे सकते हैं।

कच्चे अंडे: गर्भावस्था में कच्चे अंडे से बचना चाहिए क्योंकि उनमें साल्मोनेला नामक रोग पैदा करने वाले बैक्टीरिया हो सकते हैं, जो फूड पॉइज़निंग, उल्टी और दस्त का कारण बन सकते हैं।

ऑर्गन मीट: ऑर्गन मीट में विटामिन ए होता है, जिसकी अधिकता से बच्चे में जन्मजात विकृतियां हो सकती हैं और यहां तक ​​कि गर्भपात भी हो सकता है, खासकर गर्भावस्था की पहली तिमाही में।

कैफीन: कैफीन एक उत्तेजक है जो आपके हृदय गति और रक्तचाप को बढ़ाता है, ये दोनों गर्भावस्था में हानिकारक हैं। इसके अलावा, कैफीन आपके और आपके बच्चे के बीच की बाधा प्लेसेंटा को पार कर सकती है।

कच्चे स्प्राउट्स: कच्चे स्प्राउट्स गर्म और आर्द्र परिस्थितियों में पनपते हैं, जो बैक्टीरिया (जैसे साल्मोनेला और ई. कोलाई) के विकास के लिए आदर्श होते हैं। तो कच्चे स्प्राउट्स का सेवन आपको बीमार कर सकता है।

बिना धुले हुए उत्पाद: गर्भावस्था में बिना धोए या दूषित खाद्य उत्पादों का सेवन करने से आप टोक्सोप्लाज्मा गोंडी नामक एक हानिकारक परजीवी के संपर्क में आ सकते हैं, जो अधपके मांस और बिना धुली सब्जियों में प्रचुर मात्रा में होता है।

कच्चा दूध, पनीर और फलों का रस: कच्चे, बिना पाश्चुरीकृत दूध में ई.कोली, लिस्टेरिया और कैम्पिलोबैक्टर जेजुनी जैसे बैक्टीरिया हो सकते हैं, जो खाद्य जनित बीमारियों को जन्म दे सकते हैं।

शराब: गर्भावस्था की पहली तिमाही में शराब का सेवन शिशु में संरचनात्मक दोष पैदा कर सकता है; यानी बच्चे के चेहरे की असामान्य विशेषताएं हो सकती हैं।

प्रोसेस्ड जंक फूड्स: गर्भावस्था के दौरान प्रोसेस्ड जंक फूड्स का सेवन करने से मां के शरीर में एक्रिलामाइड नामक जहरीले पदार्थ की मात्रा बढ़ सकती है, जो बच्चे के लिए हानिकारक है।

खाद्य एलर्जी और जटिलताओं के मामले में बनाएं व्यक्तिगत आहार चार्ट 

गर्भावस्था के लिए यह भारतीय आहार योजना हर किसी के अनुकूल हो भी सकती है और नहीं भी। खाद्य एलर्जी और जटिलताओं के मामले में, आप एक व्यक्तिगत आहार चार्ट की योजना बना सकते हैं, गर्भावस्था के लिए यह भारतीय आहार योजना सभी के लिए उपयुक्त हो भी सकती है और नहीं भी। खाद्य एलर्जी और जटिलताओं के मामले में, आप डाक्टर की सलाह से एक व्यक्तिगत आहार चार्ट की योजना बना सकते हैं।

 

सारांश

 

गर्भावस्था के दौरान एक स्वस्थ, संतुलित आहार खाना बढ़ते हुए बच्चे के लिए आवश्यक है क्योंकि यह आपके द्वारा खाए जाने वाले सभी पौष्टिक भोजन की प्रतीक्षा कर रहा होता है। आपके बच्चे के सुरक्षित और स्वस्थ होने को सुनिश्चित करने के लिए आप ढेर सारे पौष्टिक खाद्य पदार्थ खा सकती हैं। ऊपर दिए गए डाइट चार्ट का भी लाभ उठा सकती हैं और अपने डाक्टर को अपने डाइट चार्ट के बारे में बताएं ताकि वह इस सिलसिले में आपका मार्गदर्शन कर सकें।

 

Frequently Asked Questions (FAQ)

 

1. गर्भावस्था के पहले महीने में मुझे क्या खाना चाहिए?

-गर्भावस्था के पहले महीने में विटामिन बी6 से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे नट्स, सालमन और केला खाना अच्छा होता है।

2. गर्भवती महिलाओं को एक दिन में कितनी कैलोरी की आवश्यकता होती है?

-गर्भवती महिलाओं को एक दिन में 300 अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होती है तो, 2200 कैलोरी और 2900 कैलोरी के बीच कहीं भी अच्छा होगा।

3. अगर मैं मॉर्निंग सिकनेस से पीड़ित हूं तो क्या खाऊं या पीऊं?

-मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों से राहत पाने के लिए इलेक्ट्रोलाइट पेय, पानी और अदरक का सेवन किया जा सकता है।

4. क्या चावल गर्भावस्था के लिए अच्छा है?

-गर्भावस्था के दौरान मध्यम मात्रा में चावल का सेवन करना ठीक है। चावल में प्रतिरोधी स्टार्च होता है, जो पेट में स्वस्थ बैक्टीरिया के विकास की सुविधा प्रदान करता है, जिससे स्वस्थ मल त्याग सुनिश्चित होता है।

5. गर्भ में बच्चे के विकास में कौन से खाद्य पदार्थ मदद करते हैं?

-प्रोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थ, जैसे अंडे, अच्छी तरह से पका हुआ समुद्री भोजन, दुबला मांस और पोल्ट्री उत्पाद, गर्भ में बच्चे को बढ़ने में मदद करते हैं।

6. गर्भावस्था के दौरान कौन सा बिस्किट अच्छा है?

-गर्भावस्था के दौरान साबुत अनाज या गेहूं से बने किसी भी प्रकार के बिस्किट का सेवन किया जा सकता है।

7. गर्भावस्था के दौरान मैं अपने बच्चे के मस्तिष्क को कैसे सुधार सकती हूँ?

-स्वस्थ और संतुलित आहार लें, फिट और एक्टिव रहें, अपने पूरक नियमित रूप से लें, प्रतिदिन कुछ मिनट के लिए अपने पेट की धीरे-धीरे मालिश करें और अपने थायराइड के स्तर को नियंत्रण में रखें।

8. क्या मौसमी फल गर्भावस्था के लिए अच्छे हैं?

-हाँ। गर्भावस्था एक ऐसा समय है जब आप स्थानीय और मौसमी फलों का आनंद ले सकती हैं। फल विटामिन, खनिज और फाइबर से भरपूर होते हैं। वे आपके ऊर्जा के स्तर को बनाए रखते हैं और गर्भावस्था के दौरान आपके बालों और त्वचा के स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं।

9. गर्भावस्था के लिए कौन सी सब्जियां अच्छी हैं?

-ब्रोकोली, सलाद पत्ता, पालक, टमाटर, गाजर और करेला कुछ ऐसी सब्जियां हैं जो गर्भावस्था के लिए अच्छी होती हैं।

10.प्रेगनेंसी में शाम को क्या खाना चाहिए?

-प्रेग्नेंसी के दौरान शाम के समय भोजन में दाल—रोटी, हरी सब्जी के साथ सलाद और दही लिया जा सकता है। वेजिटेबल पुलाव व रायता के साथ चिकन राइस भी ले सकते हैं। पराठा के साथ छाछ का भी उपयोग किया जा सकता है। बाजरे और ज्वार की रोटी भी खायी जा सकती है पर यदि यह घी और रायते के साथ लिया जाए तो ज्यादा उपयोगी हो सकता है, क्योंकि ऐसी स्थिति में अनाज आसानी से पच जाता है।

11. गर्भावस्था के दौरान महीने दर महीने क्या खाना चाहिए?

-दुबला मांस, मछली, अंडे, टोफू और आवश्यक कार्बोहाइड्रेट भोजन जैसे मीठे आलू, पूरे गेहूं पास्ता, मीठे मकई, बीज, फलियां और पागल, जई जैसे प्रोटीन समृद्ध भोजन जोड़ें। गर्भवती महिलाओं को परिष्कृत चीनी वाले मीठे खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए और कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फलों का चयन करना चाहिए।

12. एक गर्भवती महिला को अपने दैनिक आहार में कम से कम क्या शामिल करना चाहिए

-ताजे फल & सब्जियों की पांच सर्विंग्स,  साबुत अनाज की ब्रेड और अनाज के छह सर्विंग्स।

13. 3 महीने की गर्भवती के लिए सबसे अच्छा खाना कौन सा है?

-फल।
-सब्ज़ियाँ।
-प्रोटीन।
-साबुत अनाज।
-स्वस्थ वसा और तेल।
-कम वसा या वसा रहित पाश्चुरीकृत डेयरी।

14. गर्भावस्था के पहले महीने के दौरान क्या खाना चाहिए?

-डेयरी उत्पाद।
-फोलेट युक्त खाद्य पदार्थ।
-साबुत अनाज।
-अंडे और पोल्ट्री।
-फल।
-सब्ज़ियाँ।
-बीज और नट।
-मछली।

15. गर्भावस्था के लिए कौन सा भारतीय भोजन अच्छा है?

-दाल पराठा, पीली मूंग दाल पराठा।
-बाजरा और मूंग दाल खिचड़ी।
-नाचनी लड्डू, रागी लड्डू।
-मूंग चाट।
-पालक रायता
-फल और अखरोट मिल्कशेक।
-पालक और पनीर का सूप।
-गवर और मसूर की दाल।

16. क्या प्रारंभिक गर्भावस्था में चपाती अच्छी है?

-गर्भावस्था के दौरान आपको संतुलित आहार खाने की आवश्यकता होती है, जिसमें प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट और स्वस्थ वसा शामिल हो। हाँ, आपको अपने आहार में चपाती को अवश्य शामिल करना चाहिए क्योंकि यह स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट प्रदान करता है।

17. क्या गाजर गर्भवती महिला के लिए अच्छा है?

-गाजर विटामिन सी से भरपूर होती है, इसलिए गर्भवती महिलाओं और शिशुओं के लिए गाजर खाना अच्छा होता है। एनीमिया को रोकें, हर दिन गाजर खाने से माताओं को गर्भावस्था के दौरान एनीमिया के खतरे को कम करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, विटामिन सी एक व्युत्पन्न है जो शरीर की लोहे को अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ाता है।

18. मैं गर्भावस्था के दौरान कैसे सो सकती हूँ?

-अपनी पीठ के बल सोने से बचें, इससे आपके गर्भाशय का भार आपकी रीढ़ और पीठ की मांसपेशियों पर पड़ सकता है। लेकिन अगर आप अपनी पीठ के बल जागते हैं तो चिंता न करें।

-तकिए का प्रयोग करें। सावधानी से रखे तकिए आपको आरामदेह होने में मदद कर सकते हैं। अपने मुड़े हुए घुटनों के बीच या अपने पेट के नीचे एक तकिया रखने की कोशिश करें।

 

Pregnancy Diet Chart Month by Month PDF देखने के लिए कृपया यहां क्लिक करें

 

Early Pregnancy Symptoms in Hindi: 3-4 दिन बाद दिखने लगते हैं ये लक्षण

Symptoms of Pregnancy Hindi: कितने दिन में दिखने लगते हैं प्रग्नेंसी के लक्षण, पीरिएड मिस होने से पहले ही गर्भावस्था का चल सकता है पता

In Pregnancy Diet Chart: स्वस्थ बच्चे के लिए गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, सुबह के नाश्ते में किस तरह का खान पान जरूरी जानिए वह सब कुछ जो आपके लिए है जरूरी

Pregnancy Symptoms: क्या होते हैं प्रेग्नेंसी के पहले महीने के शुरूआती लक्षण ?

बेहतर स्वास्थ्य के लिए ये Indian Superfoods खाने में शामिल करना है जरूरी

Fermented यानि खमीरयुक्त खाद्य पदार्थों के 5 स्वास्थ्य लाभ जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए