Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit: प्रीमियम दरें 330 रूपये से बढकर 436 रूपये, 1 जून से लागू

Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit: प्रीमियम दरें 330 रूपये से बढकर 436 रूपये, 1 जून से लागू

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना  (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit) और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY) (Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana in hindi) की प्रीमियम दरें संशोधित की गयी हैं। नयी दरें 1 जून 2022 से लागू होंगी।

प्रीमियम दरें 330 रूपये से बढाकर अब 436 रूपये

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit) की प्रीमियम दरों को सालाना 330 रूपये से बढाकर  अब 436 रूपये कर दिया गया है। संशोधित (Amendment in rules for implementation of pmjjby and PMSBY) प्रीमियम की दरें 1.25 रूपये हर दिन के हिसाब से तय की गयी हैं। योजना से जुड़े अधिकारियों का दावा है कि PMJJBY और PMSBY के तहत प्राप्त होने वाले क्लेम राशि को आर्थिक तौर पर व्यवहारिक बनाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY) का प्रीमियम अब तक केवल सालाना 12 रूपये थे। जिसे बढ़ाकर 20 रुपये कर दिया गया है।

पीएमजेजेबीवाई के तहत 14,144 करोड़ का भुगतान

पीएमजेजेबीवाई  (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit) के सक्रिय ग्राहकों की संख्या 6.4 करोड़ और पीएमएसबीवाई (PMSBY) के तहत 22 करोड़ है। पीएमएसबीवाई की शुरूआत से अब तक 1,134 करोड़ रुपये की राशि प्रीमियम के तौर पर जुटायी गयी है, तो 31 मार्च 2022 तक पीएमएसबीवाई के तहत 2,513 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है। प्रीमियम और रुपये के दावों के लिए बीमाकर्ताओं द्वारा 9,737 करोड़ रुपये एकत्र किए गए हैं। इसी तरह पीएमजेजेबीवाई के तहत 14,144 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है। दोनों योजनाओं के लाभार्थियों को डीबीटी के तहत भुगतान किया जाता है।

Corona Epidemic के दौरान दावो को सरल बनाया गया

अधिकारियों का दावा है कि कोविड के दौरान प्रक्रियाओं को सरल बनाने और दावों में तेजी लाने के लिए कई उपाय किए गए, जिसमें बैंकों की पहुंच से जुड़े कार्यक्रम शामिल हैं, जिनके माध्यम से कोविड के दौरान मरने वाले लोगों के लाभार्थियों तक पहुंचा गया। इस प्रक्रिया के तहत दावा प्रपत्र, मृत्यु के प्रमाण और अन्य साधनों को सरल बनाया गया है।

2015 में हुई थी योजना की शुरूआत

बता दें कि वर्ष 2015 में जब यह योजना (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit) शुरू हुई थी। उस समय प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के लिए प्रीमियम राशि 12 रुपये और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के लिए 330 रुपये तय थी। तब से अब तक पिछले सात वर्षों में प्रीमियम दरों में कोई संशोधन नहीं किया गया।

IRDA ने क्या कहा?

आईआरडीए ने बताया कि 31 मार्च, 2022 तक पीएमजेजेबीवाई (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Benefit) और पीएमएसबीवाई योजना के तहत जितने दावे आएं। उनमें प्राप्त प्रीमियम पर भुगतान किए गए दावों की राशि का प्रतिशत 145.24 प्रतिशत और 221.61 प्रतिशत है। पीएमजेजेबीवाई और पीएमएसबीवाई से संबंधित संयुक्त दावा अनुपात और व्यय अनुपात का योग 163.98 प्रतिशत और 254.71 प्रतिशत है।

क्लेम को देखते हुए दरों में संशोधन का हुआ फैसला

पीएमजेजेबीवाई और पीएमएसबीवाई योजनाओं के जरिए आ रहे दावों को देखते हुए प्रीमियम दरों में संशोधन का निर्णय लिया गया है। यह अन्य निजी बीमा कंपनियों को भी योजनाओं को लागू करने के लिए बोर्ड में आने के लिए प्रोत्साहित करेगा, जिससे पात्र लक्षित आबादी के बीच योजनाओं की संतृप्ति में वृद्धि होगी, विशेष रूप से भारत में न्यून सेवा अथवा लाभ से वंचित आबादी वाले क्षेत्र हैं।

पांच वर्षों में 37 करोड़ को बीमा करने का लक्ष्य

भारत को पूरी तरह से बीमाकृत समाज बनाने के लिए अगले पांच वर्षों में पीएमजेजेबीवाई के तहत कवरेज को 6.4 करोड़ से बढ़ाकर 15 करोड़ का लक्ष्या रखा गया है। इसी तरह पीएमएसबीवाई के तहत 22 करोड़ से बढाकर 37 करोड़ करने का लक्ष्य तय किया गया है।

मंदिरों में नारियल क्यों फोड़ा जाता है? मंगल कार्यों में इसके महत्व के साथ जानिए वह सब कुछ जो आप जानना चाहते हैं