PFI BANNNED REACTIONS: पीएफआई के कट्टरपंथी दृष्टिकोण का विरोध करते हैं ओवैसी पर प्रतिबंध पर कहते हैं ये बात

PFI BANNNED REACTIONS: पीएफआई के कट्टरपंथी दृष्टिकोण का विरोध करते हैं ओवैसी पर प्रतिबंध पर कहते हैं ये बात

हैदराबाद। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के कट्टरपंथी दृष्टिकोण का विरोध (PFI BANNNED REACTIONS) करते है, पर उस पर प्रतिबंध का समर्थन भी नहीं करते हैं। उनका कहना है कि संगठन के कुछ लोगों के द्वारा किए गए अपराध का मतलब यह नहीं कि पूरे संगठन को ही बैन कर दिया जाए।

PFI पर बैन (PFI BANNNED REACTIONS) के एक दिन बाद सवाल करते हुए ओवैसी ने कहा कि पीएफआई (PFI) पर बैन लगाया गया है, पर ख्वाजा अजमेरी बम धमाकों में लिप्त संगठनों को बैन क्यों नहीं किया जा रहा है? उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि दक्षिणपंथी संगठनों पर सरकार ने प्रतिबंध क्यों नहीं लगाया? उन्होंने आगे कहा कि इस तरह का कठोर प्रतिबंध खतरनाक है, क्योंकि यह किसी भी मुसलमान को जो अपने मन की बात कहना चाहता है, उस पर रोक लगाता है।

बताते चलें (PFI BANNNED REACTIONS) कि वर्ष 2007 में अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में बम विस्फोट हुआ था। जिसमें तीन श्रद्धालु मारे गए थे, 15 घायल हुए थे। जयपुर स्थित एनआईए की एक विशेष कोर्ट ने दो लोगों को बम विस्फोट में संलिप्तता का दोषी माना था और उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई थी। कुछ लोग दावा करते हैं कि इन सजा पाने वालों का संबंध आरएसएस से था।

PFI Ban Reactions: सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे मीम

Brahmastra Box Office Collection : नवरात्रि में टिकटों के दाम घटाएं पर नहीं बढा कलेक्शन

Indian Rupee Dollar : डालर के मुकाबले भारतीय रूपये में मार्च तक और गिरावट की संभावना