Maharashtra Political Crisis: पूरे दिन कोर्ट से लेकर सरकार तक क्या हुआ, एकनाथ शिंदे का यहां जाने का है प्लान

Maharashtra Political Crisis: पूरे दिन कोर्ट से लेकर सरकार तक क्या हुआ, एकनाथ शिंदे का यहां जाने का है प्लान

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र राज्य के सीएम उद्धव ठाकरे ने गुरुवार रात अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उद्धव ठाकरे ने अपना इस्तीफा सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश के बाद दिया, जब कोर्ट ने गवर्नर के बहुमत परीक्षण के आदेश पर स्टे देने से इंकार कर दिया।

सर्वोच्च अदालत के फैसले के बाद सीएम और एमएलसी के पद से इस्तीफे का एलान करते हुए ठाकरे ने कहा कि यह शिवसेना के लिए एक नयी शुरूआत की तरह होगी। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और राकांपा नेता शरद पवार का राज्य में गठबंधन सरकार में सहयोग के लिए शुक्रिया भी कहा।

हालां​कि सुप्रीम कोर्ट का 30 जून यानि गुरूवार को फ्लोर टेस्ट की अनुमति वाला फैसला इस शर्त के साथ आया था कि यह फैसला 11 जुलाई को शिवसेना के बागी विधायकों को अयोग्य ठहराने की अपील कोर्ट के दिए गए फैसले के अधीन होगा। उधर पहले ही गवर्नर कोश्यारी ने महाराष्ट्र विधानमंडल सचिव से गुरुवार सुबह 11 बजे फ्लोर टेस्ट कराने को कहा था।

उधर कोर्ट ने जेल में निरूद्ध पूर्व मंत्री अनिल देशमुख और मंत्री नवाब मलिक को भी फ्लोर टेस्ट में वोट की अनुमति दी। ठाकरे का पक्ष भी कोर्ट गया था और वहां राज्यपाल के फैसले को अवैध ठहराने की कोशिश की। इसकी वजह यह थी कि 16 बागी विधायकों की संभावित अयोग्यता या योग्यता पर गवर्नर ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी। बीजेपी नेताओं से मिलने के बाद गवर्नर ने बहुमत परीक्षण का आदेश दिया था।

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट में जिरह करते हुए कहा कि एक दिन का नोटिस, बहुत कम समय दिया गया है। अयोग्यता की कार्यवाही से अविश्वास प्रस्ताव जुड़ा हुआ है।

उधर एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाले बागी खेमे ने कोर्ट में खुद को ही असली शिवसेना बताया। खबरों के मुताबिक शिंदे अब मुंबई से गोवा के लिए रवाना हो गए हैं। शक्ति परीक्षण पर उन्होंने कहा कि वह कल मुंबई पहुंचेंगे। उनके पास 50 विधायक हैं, दो तिहाई बहुमत का आंकड़ा है। इसलिए वह चिंतित नही हैं। उन्हें कोई रोक नहीं सकता।

Uddhav Thackeray Resign: बागी विधायक ने कहा था-विधायकों को छोड़ सकते हैं पर पवार के साथ दोस्ती नहीं