अन्तरार्ष्ट्रीय सैनिक परीक्षा में पहला स्थान प्राप्त कर देश का नाम किया रोशन

अन्तरार्ष्ट्रीय सैनिक परीक्षा में पहला स्थान प्राप्त कर देश का नाम किया रोशन

रायबरेली (इम्तियाज अहमद खान) । जगतपुर विकास क्षेत्र के नबी के पुरवा मजरे जमोड़ी गांव निवासी सैनिक ने पांच देशों की संयुक्त अंतरराष्ट्रीय सैनिक परीक्षा में पहला स्थान प्राप्त कर देश का नाम रोशन किया। नबी का पुरवा मजरे जमोडी गांव निवासी मदन यादव खेती का कार्य करते थे। उनके दो बेटे योगेंद्र व अनिल बचपन से ही मेहनती थे।

यह भी पढ़े : आईना ने सरस्वती शिशु मंदिर सभागार मे पत्रकार हित सर्वोपरि विषय पर एक विचार गोष्ठी का किया आयोजन

जो कि देश की रक्षा के लिए ही शुरुआती दौर से सपना देख रहे थे। जिसके बाद पढ़ाई पूरी करने के बाद योगेंद्र यादव ने वर्ष 2002 में इलाहाबाद आर्मी हेड क्वार्टर से सैनिक पद के लिए परीक्षा दी जिसमें पास होने के बाद सैनिक के पद पर चयन हुआ। जिसके बाद प्रशिक्षण हेतु अहमदनगर महाराष्ट्र भेजा गया। ट्रेनिंग के बाद अपने शारीरिक कौशल के बदौलत हवलदार के पद पर पदोन्नत हुए एवं छोटे भाई अनिल कुमार सेना में भर्ती होकर सिलीगुड़ी में तैनात है।

यह भी पढ़े : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला थानाध्यक्ष सुनीता कुशवाहा द्वारा फरियादियों को किया गया सम्मानित

केनिया, तंजानिया, नेपाल, श्रीलंका, भारत के बीच अंतरराष्ट्रीय युद्ध कौशल की परीक्षा हुई जिसमें 45 सैनिक परीक्षा में शामिल हुए। जिसमे योगेंद्र यादव प्रथम स्थान प्राप्त कर देश व रायबरेली जिले का नाम रोशन किया उनकी इस प्रतिभा को देखते हुए सेना कमांडर द्वारा प्रशस्ति पत्र व मेडल देकर सम्मानित किया गया। वहीं इसकी जानकारी होने पर मां कुसमा देवी व भाई अनिल कुमार तथा क्षेत्र के लोगों द्वारा बधाई देने का सिलसिला जारी हो गया।

यह भी पढ़े : यूक्रेन से मेडिकल की छात्रा सकुशल पहुची जनपद रायबरेली अपने घर

मां कुसमा देवी ने बताया है कि चार वर्ष पूर्व पिता मदन मोहन यादव का स्वगर्वास हो गया। वह आज होते तो बेटे की इस उपलब्धि पर फूलें न समाते मां का कहना है कि देश की सेवा करने का अवसर मिला। वही योगेंद्र यादव से हुई दूरभाष से वार्ता के माध्यम से बताया है कि यह खुशी हमारे जीवन के से बहुत महत्वपूर्ण है और माता पिता के आशीर्वाद से संयुक्त अभ्यास में कड़ी मेहनत की गई है। जिसमें कामयाबी मिली देश सेवा के लिए सदैव तैयार है।