जानिए क्यों मनायी जाती है देवशयनी एकादशी, क्या हैं मान्यताएं, ये है पूजा का शुभ मूहुर्त, नियम, विधि और सामग्री ​की लिस्ट

जानिए क्यों मनायी जाती है देवशयनी एकादशी, क्या हैं मान्यताएं, ये है पूजा का शुभ मूहुर्त, नियम, विधि और सामग्री ​की लिस्ट

विष्णु देवय नमो नमः Devshayani Ekadashi 2022, ekadashi july 2022 devshayani, ekadashi july 2022 hindi, ekadashi july 2022 timings, ekadashi 2022 today :

  • आषाढ़ शुक्ल की पहली एकादशी रविवार यानि आज है
  • इस दिन श्री हरि की पूजा करना शुभ होता है
  • व्रत करने से करोड़ों पुण्यों का फल प्राप्त होता है
  • भक्त उपवास और पूजा पाठ की करते हैं तैयारी

हिंदू परंपरा में, भक्त किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने के लिए दशमी और एकादश का इंतजार करते हैं। आषाढ़ शुक्ल एकादशी साल भर की 24 एकादशियों में पहली एकादशी मानी जाती है। पहले इस दिन को साल की शुरुआत माना जाता था। आषाढ़ शुद्ध एकादशी को पहली एकादशी के रूप में मनाया जाता है। इसे सयाना एकादशी या प्रथमा एकादशी हरिवासनम के रूप में भी मापा जाता है।

क्यों कहा जाता है देवशयनी एकादशी

हर महीने में एकादशी तिथि एक बार कृष्ण पक्ष और एक बार शुक्ल पक्ष में दो बार पड़ती है। इस तरह वर्ष भर में कुल 24 एकादशी पड़ती हैं। आषाढ़ के महीने में शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी कहा जाता है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक इस एकादशी की तिथि से भगवान विष्णु विश्राम करते हैं और भगवान शिव सृष्टि का संचालन करते हैं। मौजूदा वर्ष में 10 जुलाई को यानि रविवार को देवशयनी एकादशी है। यह भगवान विष्णु श्री हरि को अतिप्रिय है।

ये है त्योहार का मौका..

यह पर्व प्रकृति में परिवर्तन का प्रतीक है। उत्तर दिशा की ओर बढ़ता सूर्य आज से दक्षिण की ओर झुकता हुआ दिखाई देगा। इसे दक्षिणायन कहते हैं। आज से चातुर्मास्य व्रत की शुरुआत हो रही है. भक्त इस दिन गोपद्म व्रत करते हैं। भक्तों की मान्यता है कि यदि शुक्ल मास की एकादशी को भोजन करके शेषसाई लक्ष्मीनारायण मूर्ति की स्तुति की जाए तो उन्हें करोड़ों पुण्य का फल प्राप्त होता है। पहली एकादशी को वह अवसर माना जाता है जब भगवान विष्णु योग निद्रा में जाते हैं।

देवशयनी एकादशी को लेकर ये है मान्यताएं

इसे सयाना एकादशी इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह वह दिन होता है जब स्वामी सोते हैं। सती सक्कुबाई को सयाना एकादशी के दिन मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। एकादशी के पहले दिन उपवास करना और रात में जागरण करना बहुत ही फलदायी होता है। ऐसा माना जाता है कि द्वादशी की सुबह भगवान विष्णु की पूजा करने और तीर्थप्रसाद प्राप्त करने से पिछले जन्मों के पाप धुल जाते हैं। किंवदंती है कि भगवान विष्णु, जो उस दिन योगनिद्रा में प्रवेश करते हैं, चार महीने बाद कार्तिका शुद्ध एकादशी पर फिर से उठते हैं। इसे उत्थाना एकादशी कहते हैं। उसके बाद के दिन को क्षीरब्दी द्वादशी के नाम से जाना जाता है। इस चार महीने की अवधि को पवित्र मानते हुए, हर कोई चतुर्मास्य दीक्षा करता है।

ये है पूजा करने का नियम

जो लोग व्रत करना चाहते हैं उन्हें सूर्योदय से पहले उठना चाहिए। स्वच्छ स्नान करके श्री हरि की भक्तिपूर्वक पूजा करें। पूजा कक्ष को साफ करें और विष्णु मूर्ति या चित्र को हल्दी, केसर और फूलों से सजाएं। चीनी पोंगली का भोग लगाना चाहिए। कपूर की आरती करनी चाहिए। भक्तों को पूरे दिन उपवास करना चाहिए। झूठ मत बोलो। बुरे कर्म और विचार न करें। कल श्रीहरि का पूजन कर भोजन करना चाहिए। भोजन बाद में करना शुभ होता है।

ये है देवशयनी एकादशी पूजा करने की विधि

देवशयनी एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करके घर के मंदिर में दीप जलाएं और श्री हरि को पुष्प और तुलसी अर्पित करें, उनका अभिषेक भी करें, वह भी गंगा जल से। श्री हरि की आरती करें, भोग लगाएं। उसमें तुलसी दल जरूर रहे, क्योंकि बिना तुलसी दल के श्री हरि भोग ग्रहण नहीं करते। मां लक्ष्मी की भी पूजा अर्चना करे।

ये है पूजा के सामग्री की लिस्ट

देवशयनी एकादशी के दिन पूजन के लिए श्री हरि की मूर्ति या चित्र के अलावा, फूल, सुपारी, नारियल, धूप, लौंग, दीप, तुलसी दल, पंचामृत, घी के साथ चंदन और मिष्ठान्न इत्यादि सामग्री का प्रयोग किया जाता है।

ये है देवशयनी एकादशी का शुभ मुहूर्त

एकादशी तिथि की शुरूआत 09 जुलाई को 04:39 बजे शाम से हो रही है और इस तिथि की समाप्ति 10 जुलाई को 02:13 बजे दोपहर को होगी। श्रद्धालुओं के व्रत पारण का समय 11 जुलाई को सुबह 05:31 बजे से 08:17 बजे तक का बताया गया है। जबकि द्वादशी तिथि समाप्त होने का समय सुबह 11:13 बजे है।

सनातन धर्म क्या है? What is the difference between Hindu and Sanatan Dharm

क्या भगवान अपने भक्तों के लिए पक्षपाती हो सकते हैं?

अच्छाई और बुराई में क्या अंतर है? यदि यह समझना है तो इसे जरूर पढें