Dengue: पूरी बाह की शर्ट व पैंट पहनकर स्कूल आएं छात्र

Dengue: पूरी बाह की शर्ट व पैंट पहनकर स्कूल आएं छात्र

लखनऊ। शिक्षा निदेशक (माध्यमिक) डा महेन्द्र देव ने सभी जिलों के शिक्षा अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि सभी छात्र व छात्राएं पूरी बाह की फुल शर्ट और पैंट पहन कर विद्यालय आएं। इस बाबत सभी छात्रों को निर्देशित किया जाए। डेली प्रार्थना सभा में संचारी रोगों और उससे होने वाली समस्याओं के सम्बन्ध में बच्चों को जरुर अवगत कराया जाय। आवश्यकता पड़ने पर गांवों में जन जागरुकता रैली निकाली जाए।

डेंगू व चिकनगुनिया के बढ़ते प्रकोप से बचाव के लिए निर्देश

शिक्षा निदेशक (माध्यमिक) डा महेन्द्र देव ने प्रदेश में डेंगू व चिकनगुनिया के बढ़ते प्रकोप से बचाव के लिए सभी मण्डलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक और डीआईओएस को यह दिशा-निर्देश जारी किये है। उन्होने निर्देश दिये है कि प्रदेश में डेंगू एवं चिकनगुनिया का प्रकोप तीव्रता से बढ़ रहा है, जिससे छात्र/छात्राएं भी प्रभावित हो रहे हैं। डेंगू व चिकनगुनिया से बचाव हेतु आवश्यक है कि छात्र/छात्राओं एवं अभिभावकों को विद्यालय के माध्यम से जागरूक किया जाय, जिससे प्रकोप से छात्र/छात्राओं को बचाया जा सके।

परिसर में खुली हुयी पानी की टंकियों की नियमित सफाई की जाय। यह सुनिश्चित किया जाय कि विद्यालय परिसर एवं पास-पड़ोस में कहीं भी जल भराव न होने पाये। यह सुनिश्चित किया जाय कि विद्यालय परिसर में स्थित हैण्डपम्प एवं मल्टीपल हैण्डवाश के पास नियमित रूप से सफाई की जाय एवं एन्टीलार्वा/कीटनाशक दवाओं का छिड़काव किया जाय। विद्यालय परिसर एवं पास-पड़ोस साफ-सुधरा रखा जाये एवं झाड़ियों का कटान करा दिया जाय। एस०एम०डी०सी० की बैठक आयोजित करते हुए उन्हें डेंगू व चिकनगुनिया जैसे रांचारी रोगों एवं उनके दुष्प्रभाव के बारे में बताया जाये तथा घर एवं आस-पास की साफ-सफाई हेतु प्रेरित किया जाये। कार्यों में स्थानीय जनसमुदाय का सहयोग लिया जाय। किसी भी बच्चे को बुखार आने पर उसका तत्काल उपचार कराया जाये। इस हेतु तत्काल प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का सहयोग प्राप्त किया जाय। उन्होने निर्देश दिये किये कि उपरोक्त सभी कार्यवाही करते हुए रांचारी रोगों तथा डेंगू व चिकनगुनिया के प्रभावी नियंत्रण हेतु समस्त अध्यापकों एवं प्रधानाध्यापकों को यथेष्ठ निर्देश दिया जाये, जिससे उक्त से बचाव हो सके और उस पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सके। उक्त कार्यवाही सभी जनपदों में प्राथमिकता के आधार पर सुनिश्चित की जाय।