Delhi MCD Election: जीते हुए पार्षदों की जिम्मेदारी और सैलरी के बारे में जानिए सब कुछ

Delhi MCD Election: जीते हुए पार्षदों की जिम्मेदारी और सैलरी के बारे में जानिए सब कुछ

Delhi MCD Election Result 2022: आम आदमी पार्टी ने दिल्ली एमसीडी चुनाव 2022 में भाजपा का 15 साल पुराना किला धवस्त कर दिया है। 134 सीटों पर आम आदमी पार्टी और 104 सीटों पर बीजेपी को जीत मिली है। उधर नगर निकाय दिल्ली में सरकार बनाने को 126 सीटों की दरकार होती है। दिल्ली के लोग अपने वार्डों के लिए ‘पार्षद’ चुनते हैं। आइये यहां हम आपको बताते हैं कि पार्षद कितना कमाते हैं और शहर के प्रबंधन में इन स्थानीय नेताओं की क्या जिम्मेदारी होती है?

पार्षद की सैलरी जानिए?

दिल्ली के पार्षदों को मासिक वेतन मिलता है।
सैलरी पैकेज अमूमन 4.9 लाख रुपये सालाना होता है।
मतलब, उन्हें मासिक वेतन के तौर पर 41 हजार रुपये मिलते हैं।
इसके अलावा उन्हें कई भत्ते भी मिलते हैं।
कथित तौर पर, उन्हें विकास के लिए 1 करोड़ रुपये का फंड भी मिलता है
इस पैसे का उपयोग विकास कार्यों के मद में करना होता है
ये राशि तभी जारी की जाती है जब वे कोई परियोजना शुरू करते हैं

क्या है पार्षद की योग्यता?

पार्षद की योग्यता में डोमिसाइल, आयु और शिक्षा शामिल है
यदि वह एक प्रतियोगी के रूप में खड़ा है तो वार्ड की मतदाता सूची में होना चाहिए
पार्षद की आयु 21 वर्ष से अधिक होनी चाहिए
कम से कम 10वीं कक्षा तक शिक्षित होना चाहिए
और दिल्ली में चुनाव लड़ने के योग्य होना चाहिए

क्या होती है एक पार्षद की जिम्मेदारी?

दिल्ली एमसीडी पार्षद का मुख्य काम अपने वार्डों को बनाए रखना है
वे सड़कों और नालियों के स्थानीय विकास, सफाई और स्थानीय पार्कों और अन्य सार्वजनिक संपत्ति के रखरखाव के लिए जिम्मेदार होते हैं
वे उन्हें आवंटित धन का उपयोग अपनी पसंद के किसी भी स्थानीय सार्वजनिक कार्य में कर सकते हैं
ये चुनाव हर पांच साल में होते है

इस बार AAP ने मारी बाजी

दिल्ली एमसीडी चुनाव में आप और बीजेपी के बीच कड़ी टक्कर दिखी
नतीजे आम आदमी पार्टी के पक्ष में आएं
आप को 134 सीटों पर और भाजपा को 104 सीटों पर जीत
कांग्रेस को सिर्फ 9 सीटें मिली
2017 में भाजपा ने तत्कालीन 270 नगरपालिका वार्डों में से 181 पर जीत हासिल की थी जबकि AAP ने केवल 48 जीती थी

सभासद की कुर्सी पर काबिज होने के लिए नेताजी ले आए दुल्हनिया

Election Result 2022: MCD Election Result के बाद बोले मनीष सिसोदिया, नतीजों के बाद पार्षदों के पास आने लगे फोन 

8 December 2022 Rashifal: यह काम करने से मिलेगा सकून

उपचुनाव: रामपुर में सबसे कम मतदान, मैनपुरी में 51.89 फीसदी

छुटटा पशु को बचाने के चक्कर में पलटी पूर्व मंत्री की गाड़ी, आधा दर्जन घायल