उपचुनाव: रामपुर में सबसे कम मतदान, मैनपुरी में 51.89 फीसदी

उपचुनाव: रामपुर में सबसे कम मतदान, मैनपुरी में 51.89 फीसदी

उपचुनाव: सोमवार यानि पांच दिसम्‍बर का दिन भारतीय राजनीति के लिए काफी अहम रहा। आज के ही दिन गुजरात के ९३ विधानसभा सीटों के लिए मतदान हुआ। सोमवार को 6 अलग-अलग राज्यों की विधानसभा सीटों पर भी मतदान हुए। यूपी की मैनपुरी लोकसभा सीट पर भी मतदान हुआ।  उपचुनावों पर नज़र डालें तो सबसे ज्यादा मतदान ओडिशा की विधानसभा सीट पर वोट डाले गए।

शाम 5 बजे तक किस सीट पर कितने प्रतिशत मतदान

उत्तर प्रदेश, मैनपुरी(लोकसभा)— 51.89

उत्तर प्रदेश, रामपुर(विधानसभा)— 31.22

उत्तर प्रदेश, खतौली(विधानसभा)— 54.50

बिहार, कुढ़नी(विधानसभा)— 53.00

ओडिशा, पदमपुर(विधानसभा)— 75.89

राजस्थान, सरदारशहर(विधानसभा)— 66.87

 

मैनपुरी लोकसभा सीट

यूपी के पूर्व सीएम और सपा संस्थापक दिवंगत मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद खाली हुई मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव कराए गए। इस सीट पर शाम पांच बजे तक 51.89 फीसदी मतदान हुआ। भाजपा ने मैनपुरी सीट से रघुराज सिंह शाक्य को अपना उम्मीदवार बनाया है, समाजवादी पार्टी ने मुलायम की बहु और अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को चुनावी मैदान में उतारा है। मैनपुरी लोकसभा सीट के अलावा प्रदेश की 6 विधानसभा सीटों पर भी चुनाव हो रहा है।

रामपुर विधानसभा सीट

उत्तर प्रदेश की रामपुर विधानसभा सीट बेहद अहम है, लेकिन अहमियत के हिसाब से यहां मतदान बहुत कम हुए हैं। शाम पांच बजे तक इस सीट पर महज़ 31.22 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। सपा ने यहां से आजम खान के करीबी आसिम राजा को प्रत्याशी बनाया है, जबकि भाजपा ने पूर्व विधायक शिव बहादुर सक्सेना के बेटे आकाश सक्सेना को एक बार फिर चुनाव मैदान में उतारा है।

खतौली विधानसभा सीट

मुज़फ्फरनगर की इस विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में शाम पांच बजे तक 54.50 प्रतिशत वोट डाले गए। यहां रालोद-सपा गठबंधन से मदन भैया मैदान में हैं। वहीं खतौली से भाजपा विधायक रहे विक्रम सिंह सैनी लगातार दो बार विधायक चुने जा चुके हैं।

सरदारशहर विधानसभा सीट

कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के निधन से खाली हुई सरदारशहर विधानसभा सीट पर शाम पांच बजे तक 66.87 प्रतिशत मतदान हुए। इस बार भाजपा और कांग्रेस के अलावा आरएलपी ने मुकाबले में उतकर त्रिकोणीय बनाने की पूरी कोशिश की है।

भानुप्रतापपुर विधानसभा सीट

छत्तीसगढ़ में भानुप्रतापपुर विधानसभा उपचुनाव में ज़बरदस्त वोटिंग हुई। यहां शाम पांच बजे तक 64.86 प्रतिशत मतदान दर्ज किए गए। नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के चलते मतदान सिर्फ दोपहर 3 बजे तक ही कराया गया। यहां के 256 बूथों में से 99 नक्सल प्रभावित हैं। इसके चलते करीब छह हजार जवानों की तैनाती की गई है।

पदमपुर विधानसभा सीट

ओडिशा की पदमपुर विधानसभा सीट पर सबसे ज्यादा वोटिंग हुई। यहं शाम पांच बजे तक 75.89 प्रतिशत मतदान हुए। इस सीट पर उपचुनाव के लिए 319 केंद्र बनाए गए।

कुढ़नी विधानसभा सीट

बिहार की इस विधानसभा सीट पर शाम पांच बजे तक 53 प्रतिशत मतदान दर्ज किए गए हैं। इस सीट पर कुल 13 प्रत्याशी मैदान में हैं, देखा जाए तो सीधी टक्कर महागठबंधन से जेडीयू उम्मीदवार मनोज कुशवाहा और भाजपा के उम्मीदवार केदार प्रसाद गुप्ता के बीच है।

उपचुनावों में कहां-कहां रही हलचल

एकमात्र मैनपुरी लोकसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में सपा-भाजपा के बीच जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगाए गए।समाजवादी पार्टी ने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा कि चुनाव जीतने के लिए भाजपा नेता गुंडई पर उतर गए हैं और बूथ कैप्चरिंग करवा रही है। सपा ने आरोप लगाया कि सपा नेताओं की फर्जी गिरफ्तार कर प्रशासन चुनाव प्रभावित करना चाह रहा है। वैसे तो उत्तर प्रदेश में हुए लोकसभा और विधानसभा सीटों पर उपचुनावों का असर सीधे तौर पर तो किसी पार्टी पर नहीं पड़ेगा, लेकिन अगर मैनपुरी और रामपुर में सपा हारती है, तो पार्टी के भविष्य को लेकर चिंताएं ज़रूर बढ़ जाएंगी।

छुटटा पशु को बचाने के चक्कर में पलटी पूर्व मंत्री की गाड़ी, आधा दर्जन घायल

कर्मचारी राज्य बीमा निगम की ‘निर्माण से शक्ति’ पहल शुरु

यूपी कांग्रेस की 75 जिलों में प्रादेशिक भारत जोड़ो पद यात्रा का ऐलान, ये है कार्यक्रम

8 वर्षों में जैव-अर्थव्यवस्था 10 अरब डॉलर से बढ़कर 80 अरब डॉलर

सभी राज्यों के सभी जिलों में स्थापित होंगे मूल्य ​निगरानी केंद्र