Best Dialogue in Hindi Film: हिंदी फिल्मों के ये डायलाग अब भी मशहूर

Best Dialogue in Hindi Film: हिंदी फिल्मों के ये डायलाग अब भी मशहूर

Best Dialogue in Hindi Film: बालीवुड के एक से बढकर एक मशहूर डायलाग हैं, कई डायलाग तो हम लोग बचपन से ही सुनते चले आ रहे हैं। हिंदी फिल्मों के डायलाग आम जन मानस के जेहन में इस तरह रच बस गए हैं कि एक पीढी गुजरने के बाद भी यह लोगों की जुबान पर है। लोग फिल्में भूल जाते हैं। पर डायलाग नहीं भूलते हैं। हम हिंदी फिल्मों के ऐसे ही कुछ दिलचस्प डायलाग पेश कर रहे हैं।

संवाद की वजह से लोग याद रखते हैं फिल्मों का नाम

जिन्हें पढकर एक बार फिर आपकी पुरानी यादें ताजा हो जाएगी। दरअसल फिल्मों के संवाद ही उसकी मजबूती बनते हैं। उनके संवाद की वजह से दर्शक वर्षों तक फिल्मों को याद रख पाते हैं। यदि किसी फिल्म में ऐसी पंच लाइन निकल गयी, जो आम जन को पसंद आ गयी तो लोग डायलाग की वजह से फिल्म का नाम याद रखते हैं।

सिनेमा हाल में लोग गानों पर नहीं डायलाग पर बजाते हैं तालियां 

इसका सबसे बड़ा उदाहरण फिल्म शोले हैं। आज भी फिल्म शोले में गब्बर सिंह के डायलाग, “कितने आदमी हैं कालिया”। लोगों की जुबान पर है। सिनेमा हाल में भी दर्शक गाने या डांस पर ताली नहीं बजाते हैं। बल्कि यदि कोई अच्छा डायलाग बोला गया है तो पूरा हाल ताली की गड़गड़ाहट और सीटियों की आवाज से गूंज उठता है।

Best dialogue in Hindi film: ये हैं हिंदी फिल्मों के बेस्ट डायलाग

1- ..."इन कुत्तों के सामने मत नाचना, बसंती"... (In Film-Sholay, Actot-Dharmendra)
2- मेरे पास गाड़ी है. बंगला है. बैंक बैलेंस है...तुम्हारे पास क्या है? मेरे पास माँ है...
(In Film Deewar Amitabh Bacchan and Shashi Kapoor)
3-...मेरे करण अर्जुन आएंगे। (In Film Karan Arjun, Actress Rakhi)
4-फिल्म आनन्द में राजेश खन्ना का बोला गया डायलाग ऐतिहासिक बन गया है,
 बाबू मोशाय हम सब रंगमंच की कठपुतलियां हैं... जिनकी डोर ऊपर वाले की हाथ में है...
5-फिल्म अमर प्रेम में राजेश खन्ना का एक और बेहतरीन डायलाग है,
 पुष्पा आई हेट टियर्स, इन्हें पोंछ डालो।

6-"...सारा शहर मुझे लायन के नाम से जानता है..." (In Film Kalicharan, Actor Ajeet)

7-जली को आग कहते हैं... बुझी को राख कहते हैं... जिस राख से बारूद बने
... उसे विश्वनाथ कहते हैं...(In Film Viswanath< Actor Shatrudhan Sinha)
8-...हम जहाँ खड़े होते हैं लाइन वहीँ से शुरू होती है...
(In Film Kaliya, Actor-Amitabh Bachhan)
9-...कितने आदमी थे...(In Film Sholay, Actor-Amjad Khan)
10-कौन कमबख्त है जो बर्दाश्त करने के लिए पीता है... मै तो पीता हूँ की... 
की बस सांस ले सकूं...(in Fim Devdas, Actor Dileep Kumar)
11-रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं.. नाम है शहंशाह 
(In Film Shansah, Actor-Amitabh Bachhan)
12- मोगैम्बो खुश हुआ (In Film Mr. India, Actor Amrish Puri)
13-...मै आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता...(In  दीवार, अमिताभ बच्चन )
14-...सलीम तुम्हे मरने नहीं देगा. और हम अनारकली. तुझे जीने नहीं देंगे..
(Movie– मुग़ल–ए–आजम)
15-आपके पाँव देखे...बहुत हसीन है.. इन्हें जमीन पर मत उतारियेगा, मैले हो जायेंगे... 
(Actor– राजकुमार, Movie– पाकीज़ा)
16-क्राइम मास्टर गोगो नाम है मेरा.. आखें निकालकर गोटियाँ खेलता हूँ मै...
(Actor– शक्ति कपूर , फिल्म – अंदाज़ अपना अपना)
17-“डॉन का इंतज़ार तो बारह मुल्कों की पुलिस कर रही है... पर डॉन को पकड़ना मुश्किल 
ही नहीं, नामुमकिन है... (Actor– अमिताब बच्चन ,फिल्म – डॉन)
18- कुत्ते कमीने.. मै तेरा खून पी जाऊँगा... (Actor– धर्मेन्द्र, यादों की बारात)
19- “बाबू मोशाय.. ज़िन्दगी बड़ी होनी चाहिए, लम्बी नहीं”...
(Actor– राजेश खन्ना ,फिल्म -आनंद)
20-एक मच्छर साला आदमी को हिजड़ा बना देता है“. (Actor– नाना पाटेकर ,फिल्म – यशवंत)
21-प्रेम नाम है मेरा….प्रेम चोपड़ा. (Actor– प्रेम चोपड़ा ,फिल्म – सोल्जर)
22-खामोश… (Actor –शत्रुघ्न सिन्हा,शत्रुघ्न जी ने ये संवाद कई Movies में बोला है)
23-इंसान नाम में मजहब ढूंढ ही लेता है(Actor–नसरुद्दीन शाह, Film– A Wednesday)
24-बड़े बड़े शहरों में ऐसी छोटी छोटी बातें होती रहती हैं....
(Actor–शाहरुख़ खान, Film– दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे)
25-तारीख पे तारीख.. तारीख पे तारीख.. तारीख पे तारीख.. मिलती रही , My Lord लेकिन
इन्साफ नहीं मिला,,मिली है तो सिर्फ तारीख” (अभिनेता – सनी देओल ,फिल्म -दामिनी)

Hindi film actor Rajkumar Film List: ये है हिंदी फिल्म अभिनेता राजकुमार के फिल्मों की लिस्ट, चार दशक तक दर्शकों के दिल पर राज करने वाले एक्टर के बारे में आप नहीं जानते होंगे ये बात