Agneepath Myths vs Facts

Agneepath Myths vs Facts

Agneepath Myths vs Facts: मोदी सरकार ​अग्निपथ स्कीम (Agneepath Scheme) लेकर आयी तो देश के कई राज्यों में इसके विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गए। बिहार, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश समेत तमाम राज्यों के भावी उम्मीदवारों ने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन शुरू कर दिया। ​ट्रेनों और बसों में तोड़फोड़ और आगजनी की घटनाओं ने सबका ध्यान खींचा। बिहार में भाजपा विधायकों के दफ्तरों में भी हिंसा का प्रयास हुआ तो सरकार भी डैमेज कंट्रोल में जुट गयी और अग्निपथ योजना के जुड़े मिथकों को दूर करने के लिए आधिकारिक बयान जारी किया।

Agneepath Myths vs Facts: योजना पिछले दो साल से बन रही थी

‘अग्निपथ’ योजना का बचाव करते हुए सरकार ने कहा कि यह योजना (Agneepath Scheme)  पिछले दो साल से बन रही थी। सशस्त्र बलों के साथ व्यापक विचार-विमर्श के बाद ही इसे लागू किया गया था। योजना के अनुसार 75 प्रतिशत अग्निवीर (agniveer) कहे जाने वाले रंगरूट चार साल के बाद रिटायर हो जाएंगे।

Agneepath Myths vs Facts: नीचे कुछ मिथकों के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है-

मिथक 1: ‘अग्निपथ’ योजना के तहत नामांकन करने वाले ‘अग्निपथ’ का भविष्य असुरक्षित है?

तथ्य: ‘अग्निवर’ (agniveer)  जो चार साल की सेवा के बाद सेवानिवृत्त होंगे और यदि वह उद्यमी बनना चाहते हैं तो सरकार की तरफ से उन्हें पैकेज के रूप में वित्तीय सहायता मिलेगी। वे बैंक से ऋण के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

स्टडी के इच्छुकों को  प्रमाण पत्र

ऐसे अग्निवीरों (agniveer)  को जो आगे स्टडी करने के इच्छुक होंगे, उन्हें एक ऐसा प्रमाण पत्र दिया जाएगा, जिसमें यह घोषणा की जाएगी कि उन्होंने कक्षा 12 की परीक्षा उत्तीर्ण की है। वे आगे की पढ़ाई में सहायता के लिए ब्रिजिंग कोर्स में भी भाग ले सकते हैं।

नौकरी में प्राथमिकता

सरकार की तरफ से यह भी बताया गया है कि अग्निवीर (Agniveer Recruitement 2022)  जब अपना कार्यकाल पूरा कर लेंगे तो जो लोग आगे नौकरी करने में रूचि रखते हैं, उन्हें सीएपीएफ और राज्य पुलिस बलों की नौकरी में प्राथमिकता दी जाएगी; उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड (दोनों भाजपा शासित राज्यों) के मुख्यमंत्रियों के अलावा अन्य राज्यों ने भी यह आश्वासन दिया है। रिटायरमेंट के बाद अग्निवीरों को अन्य क्षेत्रों में रोजगार देने की योजना पर भी काम चल रहा है।

मिथक 2: ‘अग्निवर’ (Agniveer Bharati) समाज के लिए खतरा होंगे और राष्ट्र विरोधी संगठनों में शामिल हो सकते हैं?

तथ्य: सरकार ने इसे मिथक को खारिज करते हुए कहा कि यह भारतीय सशस्त्र बलों के लोकाचार और मूल्यों का अपमान है। सरकार की तरफ से बताया गया कि जो अग्निवीर (Agniveer Apply)  चार साल तक वर्दी धारण कर देश की सेवा करेंगे। वह युवा अपने पूरे जीवन काल में देश की सेवा के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे। सरकारी सूत्रों का कहना है कि वर्तमान में भी रह वर्ष हजारों लोग कौशल आदि के साथ सशस्त्र बलों से रिटायर होते हैं, पर अभी तक उनके राष्ट्र विरोधी ताकतों के साथ मिलने का कोई फैक्ट या उदाहरण अभी तक सामने नहीं आया है।

मिथक 3: क्या ‘अग्निपथ’ स्कीम (Agneepath Scheme 2022) से युवाओं के लिए सशस्त्र बलों में सेवा के अवसर घटेंगे?

तथ्य: वास्तव में अग्निपथ (Agneepath Scheme 2022)  से युवाओं के लिए सशस्त्र बलों में सेवा करने के अवसर बढ़ेंगे। सरकारी सूत्रों का कहना है कि आगामी वर्षों में मौजूदा भर्ती की तुलना में सशस्त्र बलों में ‘अग्निवर’ की भर्ती तीन गुना होने की उम्मीद है।

मिथक 4: क्या 21 साल के बच्चे भारतीय सेना में शामिल होने के लिए अपरिपक्व और अविश्वसनीय हैं?

तथ्य: सरकार की तरफ से बताया गया है कि ज्यादातर सेनाएं युवाओं पर ही निर्भर करती हैं। सूत्रों का कहना है कि किसी भी समय सेना में अनुभवी लोगों की तुलना में युवाओं की संख्या अधिक नहीं होगी। वर्तमान योजना सिर्फ 50-50 फीसदी के सही अनुपात में युवाओं और अनुभवी पर्यवेक्षी रैंकों को लाएगी।

मिथक 5: क्या अग्निपथ योजना सशस्त्र बलों की प्रभावशीलता को नुकसान पहुंचाएगी?

तथ्य: सरकार का कहना है कि अधिकांश देशों में इस तरह की अल्पकालिक भर्ती योजनाएँ वजूद मे हैं और यह योजना (Agneepath Scheme) एक युवा और चुस्त सेना के लिए आजमायी हुई प्रैक्टिस है। सूत्रों का कहना है कि पहले साल भर्ती किए जाने वाले ‘अग्निवर’ की संख्या, सशस्त्र बलों के संख्या की सिर्फ तीन प्रतिशत ही होगी। साथ ही चार साल बाद सेना में फिर से शामिल होने से पहले ‘अग्निवर’ के प्रदर्शन को परखा जाएगा या परीक्षण किया जाएगा। ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सेना को अपने पर्यवेक्षी रैंक के लिए सबसे सक्षम कर्मी मिले।

मिथक 6: सशस्त्र बलों के पूर्व अधिकारियों के साथ कोई परामर्श नहीं किया गया?

तथ्य: सरकार ने कहा कि पिछले दो वर्षों से सेवारत सशस्त्र बलों के अधिकारियों के साथ व्यापक विचार-विमर्श किया गया है। योजना (Agneepath Scheme) सैन्य अधिकारियों के विभाग द्वारा तैयार की गई थी, जो सैन्य कार्यालयों के कर्मचारी हैं। इसमें कहा गया है कि कई पूर्व अधिकारियों ने योजना के लाभों को पहचाना और इसका स्वागत किया।

Frequently Asked Questions (FAQ)

1.अग्निपथ योजना (Agneepath Scheme) क्या है?

अग्निपथ योजना (Agneepath Scheme) 14 जून 2022 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी एक नयी योजना है। इस योजना के तहत भारतीय सेना की तीनों सेवाओं में कमीशन प्राप्त सेना के अफसरों के पद से नीचे के सैनिकों की भर्ती शुरू की गयी है। भर्ती होने वाले रंगरूटों को अग्निवीर का नाम दिया गया है। योजना के तहत साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष की आयु वाले युवाओं की भर्ती का प्रावधान है, हालांकि सरकार ने बाद में वर्ष 2022 में भर्ती होने वाले अग्निवीरों के लिए अधिकतम आयु सीमा 23 वर्ष कर दी है। उनकी सेवा अवधि सिर्फ चार वर्ष होगी। चार वर्ष बाद उनमें से 25 प्रतिशत युवाओं की नौकरी को सशस्त्र बल की तीनों सेवाओं में रेगुलर यानि स्थायी किया जाएगा।

2. अग्निपथ के लिए आवेदन कैसे करें?

अग्निपथ भर्ती 2022 के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए joinindianarmy.nic.in, indianairforce.nic.in, www.joinindiannavy.gov.in पर जाएं। अग्निवीर के उम्मीदवारों को इस सेवा में चार साल के लिए नामांकन करना होता है।

3. क्या कॉमर्स का छात्र आर्मी ऑफिसर बन सकता है ?

कॉमर्स का छात्र भी सेना में शामिल हो सकता है। उम्मीदवार को बारहवीं पास करना होगा। लेकिन सीधे बारहवीं के बाद वह सेना में शामिल नहीं हो सकता, उसे एनडीए प्रवेश परीक्षा के लिए उपस्थित होना होगा। एनडीए, राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, प्रवेश परीक्षा यूपीएससी द्वारा हर साल दो बार एनडीए 1 और एनडीए 2 के रूप में भारतीय सेना में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है।

4. मैं भारतीय सेना में भर्ती कैसे हो सकता हूं?

आईएमए में प्रवेश के लिए चार मुख्य प्रविष्टियां हैं। स्नातक के अपने अंतिम वर्ष में, आपको संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी, एसएसबी को पास करना होगा, चिकित्सकीय रूप से फिट होना होगा और यदि आप योग्यता में आते हैं तो आईएमए में सीधे प्रवेश के रूप में शामिल होना चाहिए। अन्य प्रविष्टियां 10+2 टेक एंट्री हैं।

5. क्या मैं बिना गणित के भारतीय सेना में शामिल हो सकता हूँ?

आप एनडीए और एनए परीक्षा के माध्यम से गणित विषय के बिना 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम पास करने के बाद भारतीय सेना में शामिल हो सकते हैं.

How to apply agnipath? भारतीय सेना में अग्निवीर के लिए कैसे करें आवेदन , जानिए पूरी प्रक्रिया

What is agneepath scheme? जानिए हर सवाल का जवाब

Tejaswi Yadav : Agniveer Recruitment में जाति प्रमाण पत्र मांगे जाने पर उठाए सवाल तो लोगों ने दिखाया आईना

Old Mythological Hindi Movies: ये हैं हिंदू पौराणिक कथाओं पर आधारित बेस्ट फिल्में

Pregnancy Diet Chart Month by Month in Hindi : गर्भवती महिलाओं के लिए ये खाना है जरूरी

Best Movies of Dharma Productions: ये हैं धर्मा प्रोडक्शंस की दस ब्लाकबस्टर फिल्में

Early Pregnancy Symptoms in Hindi: 3-4 दिन बाद दिखने लगते हैं ये लक्षण

Gyanvapi Masjid: क्या ज्ञानवापी कूप अभी भी मौजूद है? क्या है पौराणिक काल से संबंध