मथुरा के विकास को 822 करोड़ की परियोजनाओं की शुरुआत

मथुरा के विकास को 822 करोड़ की परियोजनाओं की शुरुआत

लखनऊ। सीएम योगी आदित्यनाथ ने मथुरा के विकास के लिए 210 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। जिनकी लागत 822.43 करोड़ रुपये हैं। जिन 84 परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया, उनकी लागत 324 करोड़ रुपये है और लगभग 498 करोड़ रुपये कुल लागत की 126 परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ।

मुख्यमंत्री जी ने विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र, नियुक्ति-पत्र, आवास की प्रतीकात्मक चाभी, प्रतीकात्मक चेक, टैबलेट तथा स्मार्ट फोन व आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों को गोल्डेन कार्ड वितरित किये। मुख्यमंत्री जी ने कार्यक्रम स्थल पर आयोजित विभिन्न विभागों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने गर्भवती माताओं की गोदभराई तथा बच्चों का अन्नप्राशन भी कराया। कार्यक्रम में प्रबुद्धजनों द्वारा मुख्यमंत्री जी का सम्मान किया गया।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की लम्बी विरासत है। यहां पर भगवान श्रीकृष्ण की पावन जन्मभूमि के साथ ही राधारानी और भगवान श्रीकृष्ण की लीला भूमि भी स्थित है। भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या, बाबा विश्वनाथ का पावन धाम, मां विन्ध्यवासिनी का पवित्र धाम तथा भगवान बुद्ध से जुड़े हुए सर्वाधिक पवित्र स्थल भी उत्तर प्रदेश में मौजूद हैं। दुनिया की सबसे पवित्र नदियों मां गंगा तथा मां यमुना का आशीर्वाद प्रदेश को प्राप्त होता है। दुनिया का सबसे बड़ा सांस्कृतिक आयोजन प्रदेश के जनपद प्रयागराज में कुम्भ के रूप में होता है। भगवान राम ने वनवास काल में सर्वाधिक समय चित्रकूट में व्यतीत किया था, यह भी उत्तर प्रदेश में है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारत में वैदिक ज्ञान को लिपिबद्ध करने का कार्य प्रदेश में नैमिषारण्य की धरा पर हुआ था। भागवत की पहली कथा भगवान श्रीकृष्ण की परम्परा में उनके पौत्र को सुनाने का सौभाग्य प्रदेश के शुकतीर्थ में हुआ था। ऐसी पवित्र धरा पर हम सभी को जन्म लेने का तथा अपनी कर्मभूमि के माध्यम से यहां पर सेवा करने का अवसर प्राप्त हुआ है। आज पूरी दुनिया उत्तर प्रदेश को कौतूहल से देख रही है। नये भारत के नये उत्तर प्रदेश की प्रगति की ओर दुनिया आकर्षित हो रही है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्ष 2017 में प्रदेश सरकार ने नये नगर निगम बनाने की कार्यवाही प्रारम्भ की थी, तब उनके पास मथुरा-वृन्दावन को नगर निगम बनाने का प्रस्ताव आया था। इसे नगर निगम बनाने का सौभाग्य हमें प्राप्त हुआ। बोर्ड गठित होने के बाद विकास की प्रक्रिया आगे बढ़ी। उ0प्र0 ब्रज तीर्थ विकास परिषद के गठन के माध्यम से यहां विकास परियोजनाओं को आगे बढ़ाया गया। स्वतंत्र भारत में ब्रज भूमि के विकास का समय आया है। ब्रज भूमि के विकास के लिए लगभग 30,000 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट विभिन्न चरणों में हैं। विकास की प्रक्रिया न रुके इसके लिए आप सभी प्रबुद्धजनों के साथ संवाद बनाने तथा आभार व्यक्त करने के लिए वे आज यहां आये हैं।

योगी आदित्यनाथ सरकार 2.0: साहसिक फैसलों की दुनिया भर में महसूस हुई धमक

आल इंडिया सेंट्रल एक्साइज इंस्पेक्टर्स एसोसिशन का चुनाव संपन्न, अखिल सोनी अध्यक्ष और अभिजीत महामंत्री ​बनें

तीन जांबाज सैनिकों को सेना कोर्ट से मिली दिव्यांगता पेंशन

मौलाना कल्बे जवाद नक़वी की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद डीएम ने अवैध कब्ज़े हटवाने को गठित की कमेटी

उत्तर प्रदेश: हर शनिवार को जिलों की तीन ग्राम सभाओं में जनता चौपाल