कांग्रेस प्रत्याशी की गाड़ी जब्त, बीच सड़क पर फूट-फूटकर रोया

मऊ. उत्तर प्रदेश के घोसी विधानसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव के तहत प्रचार के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी की गाड़ी जब्त हुई तो वो भावुक हो गए और बीच सड़क पर फूट-फूटकर रोने लगे और पैदल मार्च निकाला. इस दौरान कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थकों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. बता दें कि कांग्रेस प्रत्याशी को आचार संहिता का दोषी पाया गया है.

चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन

दरअसलघोसी विधानसभा उपचुनाव में काग्रेस ने राजमंगल यादव को अपना प्रत्याशी बनाया है. यादव जब चुनाव प्रचार के लिए अपनी चार गाड़ियों का काफिला लेकर निकले तो स्टेटिक मजिस्ट्रेट और फ्लाइंग मजिस्ट्रेट ने उनके काफिले को रोक दिया. जांच-पड़ताल इस दौरान काफिले की गाड़ियों से कई चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने वाली सामग्री बरामद हुई. जिसके बाद जिला प्रशासन ने तत्काल कार्रवाई करते हुए उनके वाहनों को सीज कर दिया. इसके बाद प्रत्याशी राजमंगल यादव के समर्थक भड़क उठे और वो हंगामा करने लगे. कांग्रेस प्रत्याशी ने आरोप लगाया कि कोतवाली के एक दरोगा ने उनका कॉलर पकड़ा और उनसे मारपीट की. जिस कारण उनके आंखों से आंसू छलक उठे.

बीजेपी प्रत्याशी पर लगाया आरोप

कांग्रेस प्रत्याशी ने कहा, उनके खिलाफ जब कार्रवाई की जा रही थी, उसी समय बीजेपी के उम्मीदवार विजय राजभर का भी काफिला निकला जिसमें लगभग 40 गाड़ियां शामिल थी. लेकिन उनके वाहनों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. बता दें कि मऊ के घोसी विधानसभा के विधायक फागू चौहान को बिहार का राज्यपाल बनाया गया है, जिससे रिक्त हुई इस सीट पर उपचुनाव हो रहा है.

उपचुनाव में कांग्रेस, बीजेपी और बसपा सहित कुल 14 प्रत्याशी

घोसी सीट पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस, बीजेपी और बीएसपी सहित कुल 14 प्रत्याशी चुनावी मैदान में है. जिसमें बीएसपी से कय्यूम अंसारी, कांग्रेस से राजमंगल यादव, बीजेपी से विजय राजभर, भाकपा से शेख हिसामुद्दीन, परिवर्तन समाज पार्टी से दिलीप, सुहेलदेव भासपा से नेबू लाल, पीस पार्टी से फौजेल अंसारी, बहुजन मुक्ति पार्टी से शरदचंद, बाकी निर्दलीय प्रत्याशी के रुप में सुधाकर सिंह, अंकित, जितेन्द्र, मनोज, रामभवन और सुरेन्द्र के नाम शामिल हैं.