ये अनजान सा चेहरा कभी विश्व का जाना-माना चेहरा बन जायेगा

ManMohan Sharma

श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी पहली बार 16 मई 1996 से लेकर 1 जून 1996 तक प्रधानमंत्री रहे। दोबारा फिर 19 मार्च 1998 को वो हमारे देश के प्रधानमंत्री बने। श्री बाजपेयी जी लखनऊ से कई बार सांसद रहे और इनका लखनऊ से बहुत पुराना प्यार भी है। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद उनके लखनऊ आने पर उनका कई जगह पर बड़े जोर-शोर से स्वागत सत्कार हुआ। जगह-जगह पर उनके कई नागरिक अभिनन्दन भी हुए। उसी श्रृंखला में लखनऊ के आलमबाग क्षेत्र में लखनऊ कैंट सीट से तत्कालीन भाजपा विधायक श्री सुरेश चंद्र तिवारी जी ने भी उनका स्वागत किया। ये फोटो भी उसी समय का है।

आज जब उन्हीं फोटो को मैं देख रहा था तो फोटो में सबसे बायीं तरफ बड़ी काली मूँछ वाले अटल जी के निजी सचिव श्री शिव कुमार जी, बड़ी माला पहने हुए देश के तत्कालीन प्रधान मंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी,उनके साथ सफ़ेद मूंछ वाले तत्कालीन विधायक श्री सुरेश चंद्र तिवारी जी और सबसे दायीं तरफ काली-सफ़ेद दाढ़ी में चश्मा पहने हुए व्यक्ति, जो उस समय राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ के सक्रीय कार्यकर्त्ता थे, उसके बाद वो गुजरात के 3 बार मुख्यमंत्री बने और अब देश के दूसरी बार प्रधान मंत्री बनकर सबसे ताकतवर व्यक्ति बन गए हैं।

वक़्त वक़्त की बात है कभी कभी दाएँ-बाएँ रहने वाले व्यक्ति ही सत्ता की केंद्रीय धुरी बन जाते हैं। उस समय किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि ये अनजान सा चेहरा कभी विश्व का जाना-माना चेहरा बन जायेगा। उस व्यक्ति का नाम है … श्री “नरेन्द्र दामोदरदास मोदी”।

Source : Man Mohan Sharma