परिवार के साथ पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने डाला वोट

30 दिनों से चल रहे एक राजनीतिक छींटाकशी वाले प्रचार अभियान के बाद, कड़ी सुरक्षा के बीच आज यानी सोमवार को सुबह सात बजे महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया। राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस परिवार के साथ वोट डालने पहुंचे। उन्होंने नागपुर स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डाला। उनके साथ उनकी मता सरीता और पत्नी अमृता रहीं।

अभिनेता आमिर खान बांद्रा (पश्चिम) में एक मतदान केंद्र पर अपना वोट डालने के लिए पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कहा कि ‘मैं महाराष्ट्र के सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि वे बाहर आएं और बड़ी संख्या में मतदान करें।’

पूर्व क्रिकेटर और मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने भी बांद्रा स्थित मतदान केंद्र पर वोट डाला। उनके साथ उनकी पत्नी अंजली और बेटे अर्जुन ने भी मतदान किया।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी परिवार के साथ बांद्रा (पूर्व) में वोट डालने पहुंचे। उनके साथ पत्नी रश्मि और बेटे आदित्य और तेजस ने भी मतदान किया। आपको बता दें कि आदित्य ठाकरे वर्ली निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार हैं।

वहीं, पूर्व टेनिस खिलाड़ी महेश भूपति, पत्नी और अभिनेता लारा दत्ता बांद्रा (पश्चिम) में मतदान केंद्र पर अपना वोट डालने पहुंचे।

एक्टर और उत्तर प्रदेश के गौरखपुर से सांसद रवि किशन और एक्ट्रेस पदमनी कोलापुरे ने मुंबई के गोरेगांव स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डाला।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी अपनी पत्नी कंचन के साथ नागपुर स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डालने पहुंचे।
वहीं, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सीनियर लीडर सुप्रीया सुले ने अपने मत का इस्तेमाल किया।

आपको बता दें कि उनके चचेरे भाई और राकांपा नेता अजीत पवार भाजपा के गोपीचंद पाडलकर के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने सुबह-सुबह नागपुर में वोट डाला। इस दौरान उन्होंने लोगों से अधिक संख्या में वोट डालने की अपील की।

वहीं, अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री शुभा खोटे ने अपने मत का इस्तेमाल किया। शुभा खोटे अंधेरी पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में वोट डालने पहुंची।

चुनावी मैदान में विभिन्न दलों के 3,237 उम्मीदवारों के होने के साथ 288 सीटों के लिए होने वाले चुनावों में विशेष रूप से कुछ महत्वपूर्ण सीटों पर कड़ी टक्कर देखने को मिल सकती है।

उनमें से प्रमुख हैं, 49 वर्षीय मुख्यमंत्री देवेंद्र गंगाधरराव फड़णवीस जो लगातार दूसरी बार सत्ता में लौटकर सरकार के पहले गैर-कांग्रेसी प्रमुख बनकर इतिहास रचने की उम्मीद पाले हुए हैं।

वह प्रतिष्ठित नागपुर दक्षिण दक्षिण-पश्चिम सीट से कांग्रेस के अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी आशीष देशमुख और सात निर्दलीय सहित 18 अन्य उम्मीदवारों के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरे हैं।

भाजपा के नेता पूरे विश्वास के साथ कह रहे हैं कि फड़णवीस के लिए अपने निर्वाचन क्षेत्र में जीतना और भाजपा को राज्य में सत्ता में फिर लाना बहुत आसान होगा।

वहीं, कराड दक्षिण से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री व पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज दैजिसाहेब चव्हाण का मुकाबला भाजपा के अतुलबाबा सुरेश भोसले और सात निर्दलीय सहित 11 अन्य उम्मीदवारों से है।

भोकर में कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री, अशोक शंकरराव चव्हाण भाजपा के श्रीनिवास उर्फ बापूसाहेब देशमुख गोर्तेकर और दो निर्दलीय सहित पांच अन्य लोगों के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

मैदान में उतरे कुल 3,237 उम्मीदवारों में से केवल 236 महिलाएं हैं और शेष 3,001 पुरुष हैं। भौगोलिक क्षेत्र के संदर्भ में, सबसे बड़ा निर्वाचन क्षेत्र अहेरी और सबसे छोटा मुंबई में धारावी है।

लेकिन मतदाताओं के लिहाज से, 554,827 मतदाताओं के साथ सबसे बड़ा पनवेल सबसे बड़ा क्षेत्र है और 27,980 मतदाताओं के साथ वर्धा सबसे छोटा है। जहां चिपलून में केवल तीन उम्मीदवार हैं वहीं, नांदेड़ दक्षिण में सबसे अधिक 38 उम्मीदवार हैं।

उम्मीदवारों में, भाजपा ने 164, शिवसेना ने 126, कांग्रेस ने 147, राकांपा ने 121, मनसे ने 101, बसपा ने 262, वीबीए ने 288, सीपीआई ने 16, सीपीआई (एम) ने 8, अन्य पंजीकृत दलों ने 604 उम्मीदवार उतारे हैं।

जबकि शेष 1,400 निर्दलीय उम्मीदवार हैं। राज्य के कुल 8.97 करोड़ मतदाताओं में से 4.68 करोड़ पुरुष और 4.28 करोड़ महिलाएं हैं, साथ ही 2,634 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं।

चुनाव आयोग ने 966,661 मतदान केंद्र बनाए हैं और राज्य में मतदान के लिए वीवीपैट ईवीएम की कुल संख्या 135,021 होगी।