थैंक्स टू 100 नंबर

दो दिन पहले मैंने रात को क़रीब 11 बजे कनॉट प्लेस से अपने घर, वसंत कुंज के लिए ऊबर की. ऊबर वाले ने कॉल किया और कहा कि मैडम मुझे सीएनजी भरवानी है. मैंने कहा मुझे पिक कर लो और रास्ते में कहीं सीएनजी भरवा लेना. (कई बार ऐसा होता ही है)

उसने रास्ते में पूछा कि मैडम यहां पास में सीएनजी पंप कहां होगा. मैंने कहा वसंत कुंज वाले से भरवा लेना. उसने कहा मैडम वहां तक तो गाड़ी जा ही नहीं पाएगी. फिर उसने रास्ते में दो जगह रुक कर सीएनजी पेट्रोल पंप पूछा. एकाद किलोमीटर अलग रूट लिया. फिर अपने ऐप पर सीएनजी पंप खोजा और मेरे रूट से एकदम उलट रूट चलने लगा 4-5 किलोमीटर किलोमीटर!

बीच में मैंने मैंने मैप देखा और अब मेरा गुस्सा और डर दोनों एकदम सिरे पर था. मैंने उससे कहा कि भैया सीएनजी लोग रास्ते में डलाते हैं. आप मुझे इतना उल्टे रूट पर घुमा रहे हैं. इसमें लंबा रास्ता भी हो गया और मेरा वक़्त भी खर्च हो गया. तो वो गुस्से में कहने लगा मैंने तो पहले ही कहा था. यहां देखो किसी को भी नहीं पता कि पंप कहा है. मैंने कहा कि जो गाड़ी चलाता उसे पता होता है. बोला कि मैं तो चार साल से गाड़ी चला रहा हूं. खैर. बहस हुई. इसके बाद वो हेडफोन पर तेज़ रफ्तार में गाड़ी चलाने लगा और फाइनली उसने ड्रॉप कर दिया.

जब मेरी लोकेशन पर उसने ड्रॉप किया तो बिल आया कुछ 500 रुपए का. जबकि बुक करते समय मेरा बिल कुछ 280 रुपए था. मैंने उससे कहा कि अरे मेरा बिल तो बढ़ गया. मैंने कहा कि इतना पैसा तो मैं नहीं दूंगी. मुझे ऊबर को कॉल कर रही हूं. या तो फिर आप कॉल कर लो ऊबर को. तो बोला कि हम नहीं कॉल कर सकते और अगर आप पैसे नहीं देंगी तो मैं आपको वापस सीपी छोड़ आउंगा.

मैं अपने घर के सामने कैब में थी तो मैं कैब से उतरने लगी और साथ साथ कॉल कर रही थी ऊबर को. ड्राइवर बोला आप बिना कैश दिए कैसे उतर रही हैं. मैंने कहा आप बहस मत करो. आपने इतना लंबा रास्ता लिया. मुझे कितने किलोमीटर घुमाया, यहां आते आते रात के 11.50 हो गए और अब आप बदतमीजी़ कर रहे हैं.

Related image

बोला कि आप पैसे नहीं देंगी तो मैं 100 नंबर पर कॉल कर दूंगा. उसका इतना कहना था और मैंने सच में 100 नंबर डायल किया. तुरंत मेरा फोन पिक हुआ. मैंने शिकायत की 100 नंबर पर कि फलां फंला गाड़ी नंबर की ऊबर ने ऐसा ऐसा किया और रात के 12 बजे मेरे घर के सामने बदतमीज़ी कर रहा है.

इसके बाद ड्राइवर बोला. मैडम आप गरीब के पेट पर लात मार रही हो. और मेरी गाड़ी नहीं है. ओनर की है. मैंने कहा कि एक तो बदतमीजी कर रहे हो ऊपर से अब बातें बना रहे हो. 18 मिनट के अंदर मेरे पास 100 नंबर से वापस कॉल आया कि मैडम हम पहुंच रहे हैं आप ठीक हैं ना. तब तक वो कैब वाला वहां से भाग खड़ा हआ था. मैंने उनसे कहा कि मैं घर पर हूं, ठीक हूं कैब वाला चला गया है. पर जरा इस नंबर पर फोन करके ओनर से भी बात करिए कि दिल्ली में रात के 11.45 बजे ऐसे गाड़ी चलाना और ऐसे बात करने का क्या ढंग है भई.

वेल. थैंक्स टू 100 नंबर. बाकी मैं ये कहूंगी कि ऑफ रूट एक इंच भी जाने की ज़रूरत नहीं है. तुंरत गाड़ी रोकिए या ऊबर हेल्पलाइन पर कॉल करिए. ये छोटी बात लग सकती है लेकिन बेधड़क 100 नबंर पर कॉल करिए कि आपसे कोई बदतमीजी कर रहा है.

Post Source : Shobha Shami Facebook