पत्रकार के घर में आग लगाकर दबंगों ने फैलाई दहशत पत्रकार सहित दो लोगों की मौत

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जनपद में शनिवार को एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां संदिग्ध परिस्थितियों में घर में लगी आग से झुलसकर पत्रकार समेत 2 लोगों की मौत हो गई। यह आग इतनी भीषण थी कि घर का पूरा सामान राख में तब्दील हो गया। वहीं, घर की एक दीवार तक गिर गई। मामले में पुलिस के होश तब उड़ गए, जब मरने से पहले पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक (Journalist Rakesh Singh Nirbhik) ने गांव के प्रधान पर सनसनीखेज आरोप लगा दिया।

यह भी पढ़ें : प्रदेश में सौर एवं बाॅयोफ्यूल के माध्यम से ऊर्जा उत्पादन की अपार सम्भावनाएं

पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक ने मरने से पहले कहा कि मैं खबर लिख रहा था…तभी गांव के लोगों ने प्रधान के साथ मिलकर आग लगा दी। मामले में पुलिस अधीक्षक देवरंजन वर्मा ने बताया कि 2 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है, दोनों से पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़ें : क्यों भारत को ही मिले मौलाना कल्बे सादिक जैसे समझदार मुस्लिम धर्म गुरु

जानकारी के अनुसार, मामला कोतवाली देहात क्षेत्र के कलवारी गांव का है। यहां के निवासी 45 वर्षीय राकेश सिंह निर्भीक पेशे से पत्रकार थे। शनिवार को उनके आवास में संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई। आग इतनी भीषण थी कि आवास की एक दीवार गिर गई, जबकि अंदर रखा सारा सामान जल गया है।

यह भी पढ़ें : KASHMIRI STUDENTS OF EHSAAS TRUST INTERNATIONAL PAYS RICH TRIBUTE TO MAULANA DR. KALBE SADIQ SAHAB

वहीं, गंभीर रूप से गंभीर रूप से झुलसे पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक को आनन-फानन में जिला मेमोरियल चिकित्सालय ले जाया गया। यहां से उन्हें लखनऊ मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान देर रात करीब 11 बजे उनकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें : सुब्रत रॉय रु 62600 करोड़ का करें तत्काल भुगतान, अन्यथा पैरोल रद्द

सरेआम पत्रकार राकेश सिंह के घर में दबंगों द्वारा लगाई गई आग से हुई मौतों पर राज्य मुख्यालय मान्यता प्राप्त पत्रकार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने गहरा दुख व्यक्त करते हुए इस घटना की कड़ी भर्त्सना और निंदा की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय वर्मा ने कहा की सरकार जहां एक तरफ पत्रकारों की सुरक्षा और उनके सम्मान की बात करती है, वही पत्रकारों की आवाज को दबाने के लिए दबंगों द्वारा आए दिन हमले और हत्याएं हो रही हैं।

यह भी पढ़ें : समाचार पत्रों के टाइटल निरस्त, 804 अख़बार विज्ञापन सूची से बाहर

सरकार को इस पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए । इस घटनाक्रम में अनदेखी करने वाले अधिकारियों के खिलाफ सरकार को सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। और पीड़ित परिवार में लगाई गई आग से हुई क्षति और अकारण हुई पत्रकार की मौत पर, परिवार के आर्थिक संयोजन पर भी सरकार को ध्यान देना चाहिए। ऑल इंडिया न्यूज पेपर एसोसिएशन आईना अध्यक्ष नजम अहसन ने भी पत्रकार राकेश सिंह के परिवार की आर्थिक सहायता की मांग की ।

यह भी पढ़ें : CM योगी ने लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी उत्सव का किया शुभारंभ..

इस मामले में वर्किंग जर्नलिस्ट ऑफ इंडिया, उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष पवन श्रीवास्तव ने पत्रकारों पर हो रहे अत्याचारों पर अंकुश लगाने की गुहार लगाई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे शिकायती पत्र में प्रकरण की उच्च स्तरीय जांच शुरू करने के साथ ही बलरामपुर डीएण और पुलिस अधीक्षक को तत्काल प्रभाव से हटाने की की मांग की गई है।

Show More

Related Articles