कॉलर ट्यून से परेशान होकर छात्र ने मांगी इच्छा मृत्यु

कॉलर ट्यून से परेशान होकर छात्र ने मांगी इच्छा मृत्यु

शायद आपने ये पहली बार सुना हो कि कोई कोविड-19 बीमारी से नहीं परेशान है बल्कि कोविड की मोबाइल फोन में लगी कॉलर ट्यून से इतना परेशान है कि उसने राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु की गुहार लगाई है। खास बात ये है कि जिस छात्र ने कॉलर ट्यून से परेशान होकर इच्छा मृत्यु मांगी है। वह पीसीएस की तैयारी कर रहा है। छात्र ने राष्ट्रपति को ऑनलाइन पत्र भेजा है।

यह भी पढ़ें : विकास प्राधिकरणों की कार्यप्रणाली में सुधार जरूरी: मुख्यमंत्री

इज्जतनगर के गांधीनगर निवासी अशोक कुमार पीसीएस की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कोविड के बारे में जागरुक करने वाली कोविड कॉलर ट्यून से परेशान होकर राष्ट्रपति को ऑनलाइन पत्र भेजा है । वह अभिनेता अमिताभ बच्चन वाली कॉलर ट्यून से इस कदर परेशान हो गए कि अब उन्होंने राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु मांग ली है।

यह भी पढ़ें : बार गर्ल पर उड़ाए तीन करोड़ रुपये

उन्होंने पत्र में लिखा कि कॉलर ट्यून जब शुरू की गई थी। उस समय कोरोना से लोगों को जागरूक करने की आवश्कयता थी। कई बार इमरजेंसी में कॉल करनी होती है, लेकिन पहला एक मिनट इस कॉलर ट््यून को सुनने की मजबूरी होती है।

यह भी पढ़ें : मेडिकल छात्रों को 10 साल तक राज्य के अस्पतालों में देनी होगी सेवा

उन्होंने लिखा कि भारत सरकार ने हर कॉल पर इस कॉलर ट्यून को चलाने की अनुमति दी है, लेकिन अब यह मानसिक उत्पीडऩ कर रही है। मेरी पीड़ा को ध्यान में रखते हुए इससे मुक्ति दिलाई जाए अन्यथा इच्छा मृत्यु की अनुमति प्रदान की जाए।

Show More

Related Articles