फिक्की फ्लो ने महिला स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को किया याद

लखनऊ। अगस्त माह का यह दिन (15 अगस्त ) सभी भारत वासियों के लिए गर्व का दिन है। स्वतंत्रता दिवस तो सभी मनाते हैं लेकिन कितने लोग उन्हें याद करते हैं जिन्होंने हमें स्वतंत्र भारत में सांस लेने का मौका दिया। आजादी के युद्ध में स्त्री, पुरुष, युवा, बुजुर्ग सभी निस्वार्थ भाव से कूद पड़े थे। इसी का परिणाम है कि देश अपना 74 वां स्वतंत्रता दिवस मना सका। आजादी के युद्ध में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महिलाओं ने वीरता के साथ क्रांतिकारी और अहिंसक आंदोलनों में भाग लिया, इन सभी महिला स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का एकमात्र लक्ष्य था आजाद भारत। फिक्की फ्लो लखनऊ ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देश के स्वतंत्रता संग्राम में महिला स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान का जश्न मनाते हुए एक वीडियो फिल्म का निर्माण किया जिसे भारत सरकार के राज्यमंत्री और पूर्व थल सेना अध्यक्ष जनरल वीके सिंह ने फिक्की फ्लो की राष्ट्रीय अध्यक्ष जान्हवी फूकन और लखनऊ चैप्टर की अध्यक्ष पूजा गर्ग की उपस्थिति में जारी किया यह वीडियो फ्लो लखनऊ चैप्टर ने तैयार किया है जिसकी सर्वत्र सराहना हो रही है।

यह भी पढ़ें : बात चाहे रसखान की हो या कामरान की कृष्ण को कृष्ण रहने दिया जाए

हमारी मातृभूमि की स्वतंत्रता की लड़ाई में, जैसा कि कई अन्य क्षेत्रों और जीवन के क्षेत्रों में, महिलाओं के योगदानों और बलिदानों पर किसी का ध्यान नहीं गया। हालांकि किसी भी विरासत को किसी राष्ट्र की चेतना में जीवित रखने का एकमात्र तरीका है, उसके बारे में बात करना और उसके चारों ओर एक कथानक का निर्माण करना।

यह भी पढ़ें : प्रसाद का शाब्दिक अर्थ हुआ परिभाषित

ऐसा करने के उद्देश्य से बनाया गया यह वीडियो, स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान को स्थापित करने में एक मील का पत्थर साबित होगा। भारत के सभी कोनों से बहुत सी अनसुनी, निडर महिला नायक हैं, जिन्होंने हमारी स्वतंत्रता की लड़ाई के परिणाम को प्रभावित किया। इस वीडियो में जम्मू और कश्मीर की साजिदा बानो, असम की कनकलता बरुआ, मध्य प्रदेश की अवंती बाई, रानी चेन्नम्मा कर्नाटक, केरल की एनी मस्कारीन, तमिलनाडु की कैप्टन लक्ष्मी सहगल, यूपी की बेगम हजरत महल और पंजाब की अमृत कौर के बलिदानो पर प्रकाश डाला गया है।

यह भी पढ़ें : पत्रकार हितों के लिए समर्पित हैं रजा रिज़वी

लखनऊ फ्लो चैप्टर की चेयरपर्सन, पूजा गर्ग ने कहा, “इस परियोजना पर काम करना वास्तव में एक कठिन कार्य था और मैं इस तरह के महत्वाकांक्षी प्रयास के साथ न्याय करने के लिए मुझ पर और मेरी टीम में विश्वास रखने के लिए जाह्नबी को बहुत धन्यवाद देती हूं।”

यह विचार सबसे पहले चुनौतीपूर्ण था लेकिन जल्द ही एक बहुत ही समृद्ध अनुभव बन गया। यह कई असाधारण महिलाओं जिन्होंने हमारे राष्ट्र के भविष्य और आने वाली पीढ़ियों को सुरक्षित करने के लिए अपना सब कुछ बलिदान कर दिया।

यह भी पढ़ें : महिला उद्यमियों को बढ़ावा देना सरकार की प्राथमिकता- नितिन गडकरी

यह भी पढ़ें : मूल्यांकन की खामियों का खामियाजा U.P. बोर्ड के छात्रों को ?

हम आशा करते हैं कि श्रीमती जहान्बी फूकन द्वारा शुरू की गई एफएलओ की यह कोशिश यह सुनिश्चित करती है कि हमारी महिला स्वतंत्रता सेनानी भारतीय इतिहास के पन्नों में अपनी उचित और योग्य जगह पाएं। आप सभी इस प्रेरणादायक वीडियो को फिक्की फ्लो लखनऊ के इंस्टाग्राम हैंडल और फेसबुक पेज पर देख सकते हैं। इसे फिक्की के यूट्यूब पेज पर भी देखा जा सकता है।

Show More

Related Articles