पाकिस्तान: हिंदू लड़की की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा, बलात्कार के बाद हुई हत्या

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में हिंदू मेडिकल छात्रा निमरिता चांदनी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। इस रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि निमरिता की हत्या से पहले उनका बलात्कार किया गया था। वह सितंबर माह में अपने छात्रावास के कमरे में संदिग्ध हालत में मिली थीं।

उनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट लरकाना के चंडका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल ने बुधवार को जारी की है। इस अस्पताल की डॉक्टर अमृता का कहना है कि माना जा रहा है कि निमरिता की मौत दम घुटने से हुई थी क्योंकि उनके गले पर निशान भी पाए गए हैं। रिपोर्ट से पता चला है कि निमरिता के गले पर निशान थे, ये निशान गला दबाने या फांसी लगाए जाने से बनते हैं।

भाई के दावे सच निकले

इससे पहले जांचकर्ताओं को छात्रा के शरीर और कपड़ों से संदिग्ध पुरुष का डीएनए मिला है। जिससे इस बात की काफी संभावना बढ़ गई थी कि उनके साथ बलात्कार हुआ है। निमरिता के भाई विशाल के दावे भी पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सच साबित हुए हैं। निमरिता के भाई विशाल, जो कराची में डॉव मेडिकल कॉलेज में एक चिकित्सा सलाहकार हैं, ने दावा किया था कि उनकी बहन के गले पर मिले निशानों से पता चलता है कि उन्होंने आत्महत्या नहीं की थी। ये निशान केबल वायर से बनाए गए थे, जबकि उनके हाथों पर मिले घावों से पता चलता है कि किसी ने उन्हें पकड़ा हुआ था। जबकि इससे पहले कॉलेज के प्रशासन ने दावा किया था कि छात्रा ने आत्महत्या की है।

सामाजिक कार्यकर्ता भी थीं निमरिता

बता दें निमरिता सिंध के लरकाना जिले में बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज में फाइनल ईयर की छात्रा और सामाजिक कार्यकर्ता थीं। वह अपने दोस्तों को पलंग पर मृत मिली थीं और उनके गले में रस्सी पड़ी थी।। वह मूल रूप से घोटकी जिले की रहने वाली थीं, जहां सितंबर माह में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के एक स्कूल प्रिंसिपल को कथित ईश निंदा के आरोप में हिरासत में ले लिया गया था। जिसके बाद यहां दंगे भी हुए थे।

25 सितंबर को हाईकोर्ट ने जांच के आदेश दिए थे

प्रदर्शनों को देखते हुए 25 सितंबर को सिंध हाईकोर्ट ने मामले में न्यायिक जांच के आदेश दिए थे। जिसके बाद हिंदू लड़की की मौत के मामले में जांच शुरू की गई। जज ने सभी पक्षों के बयान दर्ज करने के बाद छात्रावास के कमरे का दौरा भी किया, जहां शव मिला था, साथ ही पुलिस द्वारा बरामद किए गए मोबाइल फोन और लैपटॉप की फोरेंसिक रिपोर्ट की भी जांच की गई थी। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने कहा था कि निमरिता ने कथित तौर पर विश्वविद्यालय के छात्रावास में अपने कमरे में छत के पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली थी। फिलहाल मामले की जांच अभी खत्म नहीं हुई है।

Show More

Related Articles