उत्तर प्रदेश विधानसभा ने रचा इतिहास

सत्ता पक्ष ने विपक्ष को आइना दिखाया, तो विपक्ष ने दूसरे दिन सदन का रुख किया

Hemant Krishna

लखनऊ : अवसर था गांधी जयंती का। पूरे राष्ट्र को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देनी थी।उत्तर प्रदेश आगे आया। माननीय विधानसभा अध्यक्ष हृदय नरायण दीक्षित जी एवम आदरणीय मुख्यमंत्री श्री आदित्य योगी जी ने मिलकर मन बनाया की क्यों न इस गांधी जयंती को यादगार बनाया जाय। फिर क्या था ? दोनों माननीयों ने विपक्ष को साथ लेकर इस पर कार्य योजना को अंतिम रूप दिया। विधानसभा सत्र को लगातार 36 घण्टे चला कर एक रिकॉर्ड बंनाने पर सहमति बन गयी।किन्तु दुर्भाग्य !

जब 2 अक्टूबर को विधानसभा सत्र शुरू हुआ तो दोनों सदनों विधानसभा और विधान परिषद से विपक्ष नदारत था। संयुक्त विपक्ष के विरोध के बावजूद शाम होते होते कांग्रेस की रायबरेली से विधायक अदिति सिंह सदन पहुँच गई और सदन को सम्बोधित कर गांधी जी को सही रूप में श्रद्धाजंलि दी। इसी तरह दूसरे दिन विपक्ष से प्रसपा प्रमुख श्री शिवपाल यादव भी सदन पहुँच गए और सदन को सम्बोधित किया।शिवपाल यादव जी ने मुख्यमंत्री जी को ईमानदारी का प्रमाणपत्र देकर विपक्षी एकता को तार तार कर दिया।

विपक्ष एक बार फिर अपने द्वारा बुने गए जाल में फंस गया।क्षद्म विपक्षी एकता का दम्भ टूट चुका था। सत्तापक्ष की एकता ने विपक्ष को एक तरफ जहां आईना दिखाया वही लगातार 36 घण्टे लगातार विधानसभा सत्र चला कर एक कीर्तमान स्थापित कर दिया। मुख्यमंत्री योगी जी व विधानसभा अध्यक्ष हृदय नाथ दीक्षित जी को हृदय से आभार। उन विधायकों को भी कोटि कोटि बधाई जिन्हों ने विधान सभा सत्र को लगातर 36 घण्टे चला कर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है।हृदय से आभार उन पत्रकारों का जिन्होंने दिनरात कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए विधान सभा कार्यवाही का कवरेज किया।

हृदय से आभार उन अधिकारियों कर्मचारियों का जिन्होंने दिन रात एक कर इस इतिहास को रचा। हृदय से आभार सूचना विभाग के सभी वरिष्ठ अधिकारियों का जिन्हों ने अपने कनिष्ठ अधिकारियों- कर्मचारियों के साथ मिलकर इस कार्यक्रम को सफल तो बनाया ही साथ में विधानसभा कार्यवाही कवरेज करने वाले पत्रकारों की हर समस्या का पूरी तरह ख्याल रखते हुए उनके भोजन आदि की एक अच्छी व्यवस्था की।

Source : Facebook Post Hemant Krishna

Show More

Related Articles